संवाद सहयोगी, रानीखेत : अखिल भारतीय समानता मंच के तत्वावधान में आयोजित बैठक में प्रमोशन में आरक्षण का मुद्दा छाया रहा। इसके अलावा बिना जाच गिरफ्तारी वाले कानून के विरोध में भी स्वर उठे। बैठक में संगठन की मजबूती के लिए अधिक से अधिक लोगों को सदस्यता दिलाने पर सहमति व्यक्त की गई।

शिव मंदिर सभागार में विभिन्न विभागों व संगठनों के कर्मचारियों की बैठक हुई। संगठन ने तमाम बिंदुओं पर चर्चा की गई। वक्ताओं ने प्रमोशन में आरक्षण का पुरजोर विरोध करते हुए बिना जाच गिरफ्तारी वाले कानून में संशोधन की मांग की। वक्ताओं ने कहा कि समानता के मूल अधिकार की बहाली संपन्न लोगों को आरक्षण के दायरे से बाहर कर असल वंचित जरुरतमंदों को एक बार एक परिवार संरक्षण की बात पर जोर दिया। इस दौरान संगठनात्मक मजबूती के लिए अधिक से अधिक सदस्य बनाने पर जोर दिया गया। 24 नवंबर को देहरादून में होने वाली जनरल ओबीसी इंप्लाइज एसोसिएशन के सम्मेलन में हिस्सा लेने पर सहमति बनी। अखिल भारतीय समानता मंच व उत्तराखंड जनरल ओबीसी एसोसिएशन की सदस्यता व सहयोग का विस्तार करने का निर्णय लिया गया। अखिल भारतीय समानता मंच की रानीखेत इकाई की कार्यकारिणी का पुनर्गठन कर दीप पंत अध्यक्ष, विनोद बिष्ट उपाध्यक्ष, जीवन सिंह महासचिव, केएन भगत संयुक्त सचिव तथा केडी शर्मा को कोषाध्यक्ष बनाया गया। बैठक में एमएस नयाल, विनोद बिष्ट, जय सिंह नेगी, कृष्ण कुमार उपाध्याय, ललित मोहन आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran