संवाद सहयोगी, अल्मोड़ा : पुलिस का शिकंजा कसने के बावजूद मादक पदार्थों की तस्करी में लिप्त युवा सुधरने का नाम नहीं ले रहे। एंटी ड्रग टास्क फोर्स की टीम ने छापामार कर दो युवकों से 13 ग्राम स्मैक बरामद की। अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत 1.30 लाख रुपये आंकी जा रही। हत्थे चढ़े एक युवक पर पूर्व में भी दो मामले दर्ज हैं। आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है। इनमें एक सेवानिवृत्त शिक्षक तो दूसरे के पिता वन विभाग में हैं।

 एंटी ड्रग टास्क फोर्स ने ऑपरेशन नया सवेरा के तहत लोधिया कस्बे में छापामार अभियान चलाया।  पैदल बाजार की ओर जा रहे दो संदिग्ध युवकों पर संदेह होने पर कांस्टेबल नवीन जोशी, खुशाल राम व दिनेश धपोला ने पूछताछ की तो वह सकपका गए। इस पर मयूर नेगी पुत्र श्री राजेंद्र सिंह नेगी निवासी चंपानौला व प्रदीप बिष्ट पुत्र नारायण सिंह बिष्ट (ऑफिसर्स कॉलोनी) को रोक लिया। तलाशी लेने पर मयूर के पास से आठ ग्राम व प्रदीप के पास से पांच ग्राम स्मैक बरामद की गई। कोतवाल अरुण वर्मा के मुताबिक पकड़े गए युवक चेकिग की डर से लोधिया में गाड़ी से उतर गए। वहां से पैदल बाजार की ओर जा रहे थे। आरोपितों ने पूछताछ में बताया कि किच्छा का एक युवक उन्हें हल्द्वानी आकर स्मैक बेचता है। उससे मादक पदार्थ खरीदकर अल्मोड़ा में युवकों को सप्लाई की जाती है। मयूर नेगी के खिलाफ इससे पूर्व भी स्मैक बेचने के आरोप में एनडीपीएस एक्ट के तहत दो मामले दर्ज हैं। कोतवाल के अनुसार दोनों आरोपितों के साथ ही किच्छा से स्मैक लाकर हल्द्वानी में बेचने वाले मास्टर माइंड की कुंडली भी खगाली जा रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप