रामनगर (जेएनएन) : टिकट न मिलने से निकाय चुनाव में बगावत करने वाले कई कार्यकर्ताओं को अब तक नहीं मनाया जा सका है। रामनगर में फिलहाल तो यही हाल देखने को मिल रहा है। असंतुष्‍ट पुराने कार्यकर्ता को टिकट नहीं मिलने से अब नगर भाजपा के पदाधिकारी व वरिष्ठ कार्यकर्ता पूरी तरह से विरोध में उतर आए। उन्होंने प्रत्याशी बदले जाने के बाद ही चुनाव प्रचार का निर्णय लिया है। कार्यकर्ता समझाने के लिए पहुंचे प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू व प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट से भी मिलने भी नहीं गए।

पैठपड़ाव में सोमवार को भाजपा के नाराज पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं की बैठक हुई। प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू व प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट कार्यकर्ताओं को समझाने रामनगर एक होटल में पहुंचे। नाराजगी इस कदर थी कि कार्यकर्ता उनसे मिलने नहीं गए। वे उन्हें पैठपड़ाव में आकर बात करने के लिए अड़े रहे। कार्यकर्ताओं ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष ने टिकट बंटवारे में विधायक की भी राय नहीं ली। पुराने कार्यकर्ताओं का सम्मान की जगह अपमान हो रहा है। प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ बैठक में काफी आक्रोश दिखा। कार्यकर्ताओं का आक्रोश फूटने की आशंका से दोनों नेताओं ने होटल में ही बंद कमरे में विधायक दीवान सिंह बिष्टï, जिला महामंत्री राकेश नैनवाल से बात की। इसके बाद वह होटल से ही काशीपुर के लिए रवाना हो गए।

सुनिए क्‍या कहते हैं प्रदेश प्रभारी

कार्यकर्ताओं के असंतोष पर प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू का कहना है कि कार्यकर्ता अनुशासित हैं। कल तक कई नाराज कार्यकर्ता संगठन में वापस आ गए हैं। लोकसभा व विधानसभा की तरह निकाय चुनाव में भी भारी बहुमत से भाजपा जीत रही हैं। क्योंकि राज्य सरकार ने अच्छा कार्य किया है।

बहुमत की राय से दिया गया टिकट

इस बारे में प्रदेश अध्‍यक्ष अजय भट्ट का कहना है कि कुछ कार्यकर्ता अलग बैठे हैं। हमें वहां बुलाया था, लेकिन हम क्रास हो गए। नाराज कार्यकर्ताओं का पता नहीं था। बहुमत की राय से टिकट दिया गया है। विद्रोही कार्यकर्ताओं को तीन चार दिन का समय दिया है। मजबूरी में अनुशासन का डंडा चलाना पड़ेगा।

काशीपुर में प्रदेश अध्यक्ष से नोकझोंक, गुस्से में असंतुष्ट

रामनगर नगर पालिका अध्यक्ष पद पर भाजपा से टिकट न मिलने से नाराज समर्थकों ने काशीपुर में हंगामा काटा। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष से भी नोकझोंक हुई और उन पर टिकट बंटवारे में भेदभाव का आरोप लगा डाला।

भाजपा ने रामनगर में अध्यक्ष पद पर नगर अध्यक्ष की पत्नी रुचि गिरी शर्मा को प्रत्याशी बनाया है। जबकि टिकट की दावेदारी कर रही भाजपा ओबीसी प्रकोष्ठ की प्रदेश उपाध्यक्ष ममता गोस्वामी को टिकट नहीं मिला। इससे ममता के समर्थक नाराज चल रहे हैं। काशीपुर के बाजपुर रोड स्थित महिमा रिसार्ट में आयोजित कार्यकर्ता सम्मेलन में नाराज कार्यकर्ताओं को वार्ता के लिए बुलाया गया। रामनगर से करीब 30-35 कार्यकर्ता यहां पहुंच गए। सम्मेलन खत्म होने के बाद प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट से बात शुरू हुई तो कार्यकर्ताओं ने उन्हीं पर टिकट बंटवारे में भेदभाव का आरोप लगाते हुए हंगामा काटना शुरू कर दिया। बहस नोकझोंक में बदल गई। प्रदेश प्रभारी श्याम जाजू ने उन्हें समझाकर शांत किया। रामनगर विधायक दीवान सिंह के पुत्र जगमोहन ङ्क्षसह बिष्ट सहित कार्यकर्ताओं ने कहा कि ममता गोस्वामी करीब 25 साल से पार्टी से जुड़ी है और संगठन की कई जिम्मेदारियां भी निभा चुकी हैं। जिला महामंत्री राकेश नैनवाल के कहने पर रुचि को टिकट दिया गया है। सभी ने रुचि का चुनाव प्रचार न करने की चेतावनी देते हुए जिला महामंत्री नैनवाल को पार्टी से निकालने की मांग की। जाजू ने आश्वस्त किया कि प्रदेश संगठन महामंत्री संजय को विवाद हल कराने को कहा है। इस पर असंतुष्ट कार्यकर्ता यह कहकर चले गए कि मामला हल न होने तक चुनाव प्रचार नहीं किया जाएगा।

यह भी पढ़ें : निकाय चुनाव में महिलाओं ने भी बढ़चढ़ कर ली भागीदारी, जानिए कितनी हैं मैदान में

यह भी पढ़ें : पहाड़ से पलायन करने वाले मोहन से लें सबक, औरों को भी दे रहे रोजगार

Posted By: Skand Shukla

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस