वाराणसी, जेएनएन। सिगरा थान्तर्गत चंदुआ छित्तूपुर क्षेत्र में घरेलू कलह से आजिज विवाहिता ने बीती रात घर में आग लगाकर अपनी जान दे दी। इस दौरान कमरे में मौजूद दो बच्चे आग की लपट और धुंए के गुबार के बीच दम घुटने से अचेत हो गए। घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने बचाव कार्य करते हुए महिला और बच्चों को कमरे से बाहर निकाला। उपचार के लिए महिला को मण्डलीय अस्पताल लाया गया। यहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया। घटना की सूचना पाकर पहुंचे विवाहिता रीता (42) के भाई अप्पू शर्मा ने बताया कि उसकी बहन का विवाह 25 वर्ष पूर्व पियरी (चौक) क्षेत्र निवासी 

मनोज शर्मा के साथ हुई थी। पति बडी पियरी क्षेत्र में सैलून चलाता है। जिसके दो बच्चे अमन (19) वर्ष नैतिक (13) वर्ष है। दो वर्ष पूर्व उनका परिवार छित्तूपुर में मकान लेकर रह रहा था। पड़ोसियों की माने तो पति- पत्नी के बीच हमेशा छोटी- छोटी बातों को लेकर झगड़ा होता था। बीते गुरुवार की रात भी कुछ ऐसा ही हुआ। झगड़े के बाद मनोज घर से बाहर चला गया। बच्चे भी गहरी नींद में सो रहे थे। इस दौरान जानलेवा कदम उठाते हुए रीता ने खुद को आग के हवाले कर दिया। चीखपुकार सुनकर दौड़े पड़ोसियों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। सुबह मनोज के बड़े भाई केदार शर्मा ने रीता के मायके वालों को घटना की जानकारी दी। रीता का पुत्र नैतिक सनातन धर्म स्कूल में 12 वी कक्षा पढ़ता है, फिलहाल बच्चों की स्थिति ठीक है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप