मऊ, जेएनएन। साठ घंटों के जद्दोजहद के बाद आखिरकार जिला पंचायत के परिणाम की घोषणा के बाद प्रशासन व आमजन भी राहत महसूस कर रहा है। जिला पंचायत की 34 सीटों पर लगभग 15 सीटों पर आधी आबादी ने जहां कब्जा जमाया वहीं आप को छोड़कर सभी दलों के प्रत्याशियों का जिला पंचायत में जाने का रास्ता साफ हो गया। इस बार पिछले चुनाव की अपेक्षा महिलाओं की अधिक भागीदारी रही है। पिछले बार 13 महिलाएं जीती थीं। इसी के साथ अब जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी के लिए कश्मकस शुरू हो गई है। इसके लिए कई प्रत्याशी अपनी दावेदारी पेश करना शुरू कर दिए हैं।

जिन वार्डों से महिलाएं चुनाव जीती हैं उसमें वार्ड नंबर 04 मर्यादपुर से नंदा देवी, वार्ड नंबर 09 रतनपुरा से किरन, वार्ड नंबर 14 कोइरियापार से गीता, वार्ड नंबर 16 दरगाह से हुस्नआरा, वार्ड नंबर 17 रसूलपुर से इंद्रावती, वार्ड नंबर 19 सियरही बरजला से मोनिका राय, वार्ड नंबर 21 अमिला बिंदू यादव, वार्ड नंबर 22 से आरजू यादव, वार्ड नंबर 23 नदवासराय से अनीता, वार्ड नंबर 27 से करहीं से गीता, वार्ड नंबर 29 रानीपुर से अर्पिता यादव, वार्ड 30 सुल्तानीपुर से कु. श्वेता कुमारी, वार्ड नंबर 31 सरसेना से विद्यावती, वार्ड नंबर 33 रेकवारेडीह से गीता, वार्ड नंबर 34 परदहां से पुष्पा शामिल हैं। इसके पूर्व वर्ष 2015 के पंचायत चुनाव में वार्ड नंबर 02 से प्रभावती, वार्ड नंबर तीन से अमृता सिंह, वार्ड नंबर 06 से संगीता, वार्ड नंबर 07 से शीला, 08 से गीता, 11 से लालती, 15 से फूला, 17 से चिंता, 18 से मेवाती, 21 से उर्मिला, 22 से मीना, 31 से नीलम व 32 से प्रतिमा ने जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जीत कर सदन में पहुंची थी।

महिलाओं की राजनीति में बढ़ती भागीदारी भविष्य के लिए शुभ संकेत हैं

महिलाओं की राजनीति में बढ़ती भागीदारी भविष्य के लिए शुभ संकेत हैं। इससे न सिर्फ महिला सशक्तीकरण काे बढ़ावा मिलेगा, बल्कि महिलाएं आत्मनिर्भर बनकर देश व समाज का भविष्य संवारने में अपना अमूल्य योगदान देंगी।

- अमित सिंह बंसल, जिला निर्वाचन अधिकारी