मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

वाराणसी, जेएनएन। मंडुवाडीह थाना क्षेत्र के भूलनपुर स्थित वाल्मीकि बस्ती में संपत्ति के लालच में बहू द्वारा सास ससुर को विगत कई महीनों से एक कमरे में बंधक बनाए जाने का मामला प्रकाश में आया है। एक अज्ञात व्यक्ति द्वारा सूचना दिए जाने पर मंडुवाडीह पुलिस ने रेस्क्यू ऑपरेशन कर सास और ससुर को बहू की चंगुल से मुक्त कराया। इस दौरान मौके से बेटा और बहू पुलिस कार्रवाई के दौरान फरार हो गए।

लालजी यादव (70), मुनेसरी देवी (67) दोनों दिलदारनगर गाजीपुर के निवासी हैं। इनके बड़े बेटे रामाशीष व बहू सत्ती देवी भुलनपुर स्थित वाल्मीकि बस्ती में रहते हैं। पुलिस के अनुसार पिछले वर्ष दीपावली के पूर्व यह दोनों पति-पत्नी अपने बड़े पुत्र के यहां वाल्मीकि बस्ती में आए तो यहां पर संपत्ति के लालच में बहू सत्ती देवी ने दोनों पति-पत्नी को एक कमरे में बंधक बना लिया। वह जिंदा रखने के लिए दोनों को एक समय का खाना देती थी। इन का छोटा पुत्र रामविलास होली में अपने माता पिता से मिलने आया तो उसे मिलने नहीं दिया गया। मंडुवाडीह पुलिस को एक अज्ञात फोन आया कि वाल्मीकि बस्ती में एक बुजुर्ग दंपत्ति को बंधक बनाकर बहू और बेटे द्वारा रखा गया है।

जिस पर पुलिस ने बताए गए मकान पर छापेमारी की उक्त कमरे से काफी दुर्गन्ध आ रही थी उन्होंने देखा कि एक बुजुर्ग दंपत्ति एक कमरे में बैठे हैं और कमरे में मल बिखरा हुआ है। इस पर पुलिस ने सास ससुर लाल जी यादव वह मुनेसरी देवी को मुक्त कराया, मौके से बहू सत्ती देवी व पुत्र रामाशीष धोखे से भाग निकले। मंडुवाडीह पुलिस ने बुजुर्ग दंपत्ति को छोटे बेटे रामविलास की सुपुर्दगी में दे दिया है वहीं बहू सत्ती देवी तथा पुत्र राम आशीष के खिलाफ विभिन्न धाराओं में मुकदमा पंजीकृत कर उनकी तलाश में जुट गई है।

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप