वाराणसी, जागरण संवाददाता। पूर्वांचल में मौसम का रुख लगातार बदलाव की ओर होने के साथ ही अब मौसम का रुख सामान्‍य हो चला है। मौसम विभाग ने इस पूरे सप्‍ताह तापमान में उतार चढ़ाव का रुख हो सकता है। जबकि बादलों के साथ ही बूंदाबांदी के संकेत भी मौसम विभाग ने दिए हैं। माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में पुरवा हवाओं के संग बंगाल की खाड़ी के असर की वजह से वातावरण में नमी में इजाफा हो सकता है। इसकी वजह से लोकल हीटिंग होने के बाद बादल बूंदाबांदी करा सकते हैं। वहीं सोमवार की शाम को बूंदाबांदी और आंधी का दौर शुरू हुआ तो शाम के बाद भी बादलों की सक्रियता का रुख बना रहा।

बीते चौबीस घंटों में अधिकतम तापमान 40.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य रहा। न्‍यूनतम तापमान 26.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य रहा। आर्द्रता अधिकतम 51 फीसद और न्‍यूनतम 36 फीसद दर्ज की गई। मौसम विभाग की ओर से जारी सैटेलाइट तस्‍वीरों के अनुसार पूर्वांचल और आसपास बादलों की सक्रियता का रुख बना हुआ है। मौसम विभाग ने इस सप्‍ताह बादलों की सक्रियता का अंदेशा जताया है। जबकि सोमवार को मौसम विभाग की ओर से बारिश और तेज हवाओं का संकेत दिया गया है। माना जा रहा है कि अब तापमान सामान्‍य हो चला है। इसकी वजह से नमी का स्‍तर बढ़ने पर वातावरण में बादलों की सक्रियता हो सकती है।

मौसम विभाग ने इस पूरे सप्‍ताह नमी का स्‍तर बढ़ने से बूंदबांदी और बादलों का संकेत जारी किया है। जबकि प्री मानसूनी सक्रियता का रुख होने की वजह से बादलों की आवजाही का दौर शुरू हो चुका है। इसकी वजह से आने वाले दिनों में बादलों की सक्रियता का रुख अभी से शुरू हो गया है। माना जा रहा है कि मानसून के अगले 28 दिनों में आगमन के पूर्व ही प्री मानसूनी सक्रियता की वजह से अब मौसम का रुख सामान्‍य होने की उम्‍मीद है। जबकि बारिश होने के बाद उमस में इजाफा होना तय है। 

Edited By: Abhishek Sharma