जागरण संवाददाता, वाराणसी। केंद्रीय वस्तु एवं सेवा कर (सीजीएसटी) विभाग से जुड़ी कई समस्याओं को लेकर कुछ महीनों से शिकायतों का दौर जारी है। इसका निराकरण नहीं होने से परेशानी बढ़ने के साथ संबंधित लोगों में आक्रोश पनप रहा है। ऐसे ही कुछ महत्वपूर्ण बिंदुओं से जुड़े सवालों पर सीजीएसटी के आयुक्त आगरा (प्रभार वाराणसी) ललन कुमार से अरुण मिश्रा ने बात की। पेश है प्रमुख अंश।

-डाक्टरों पर सर्विस टैक्स नहीं है फिर कारण बताओ नोटिस दिया जा रहा है। जवाब स्वीकार नहीं किया जाता है।\\- वाराणसी क्षेत्र के डाक्टर धैर्य रखें। कानूनी प्रक्रिया का पालन करने के उपरांत समस्या दूर करने के लिए दिसंबर तक विशेष कैँप लगाएंगे। एक स्लाट बनाएंगे, जिसमें निश्चित संख्या में दिक्कतें दूर की जाएंगी।

- मृत प्रणाम पत्र दिए जाने के बाद भी टैक्स के लिए संबंधित को कारण बताओ नोटिस दिया जा रहा है।\\B- कार्य के दबाव में ऐसा हुआ होगा। हमें ऐसी कोई सूची मिल जाए तो तत्काल निर्देश जारी करके इन फाइलों को बंद करा देंगे।

- पहले के नोटिसों के लिए पर्सनल हियरिंग (व्यक्तिगत सुनवाई) के लिए नोटिस भेजा जा रहा है। बुलावे की तारीख के बाद नोटिस मिलने से समस्या बढ़ी है।

- इसके लिए पोस्टमास्टर के कार्यालय के किसी अधिकारी से संपर्क करके नोडल अधिकारी नियुक्त कराने का निर्देश दिए हैं। इससे यहां से निर्गत पत्र डाक विभाग द्वारा तुरंत भेज दिए जाएंगे।

- कई ऐसे मामले आ रहे हैं जिसमें जिन प्राप्तियों पर टैक्स जमा कर रिटर्न फाइल किया गया है उसी प्राप्ति पर दोबारा टैक्स जमा करने के लिए नाेटिस जारी किया जा रहा है।

- इस प्रकार के मामलों में संबंधित लोग सीजीएसटी आफिस पहुंचें। उनकी समस्याओं का तत्काल निस्तारण किया जाएगा। किसी समस्या के लिए 0542-2508061 फोन करें या div.varanasi @ icegate.gov.in पर शिकायत कर सकते हैं।

- निरस्त किए पंजीकरण को फिर पंजीकरण कराने के लिए नोटिस भेजा जा रहा है। विभाग से सहयोग नहीं मिल रहा है।

- जीएसटी में छह माह तक लगातार रिटर्न दाखिल नहीं करने पर पंजीकरण निरस्त कर दिया जाता है। दोबारा बिजनेस के लिए एक आवेदन देना पडे़गा। सीजीएसटी ने शून्य रिटर्न फाइल करने के लिए एसएमएस की सुविधा दी है। आनलाइन भी नहीं करना है। ऐसी सुविधा में दिक्कत नहीं होनी चाहिए।

Edited By: Saurabh Chakravarty