वाराणसी, जागरण संवाददाता। मौसम विज्ञानियों के अनुसार गुलाबी ठंड आने में अभी लगभग एक सप्ताह से अधिक का समय शेष है। ऐसे में इतने दिनों तक मौसम की उलटबांसी देखने को मिलेगी। मानसून के विदा होने के बाद वातावरण में फिर सक्रिय हुए धूल-गुबार के कणों के चलते तापमान और बेचैनी भरी गर्मी बढ़ने लगी है। वहीं बादलों के टुकड़ों के ऊपर से झांकती सूरज की तीखी किरणें क्वार की धूप के तीखेपन का एहसास कराएंगी। हालांकि न्यूनतम तापमान में लगातार आ रही गिरावट से रातें जरूर सुकून भरी और अपेक्षाकृत ठंडी होंगी, इनकी शीतलता आने वाले दिनों के साथ अब बढ़ते ही जाना है।

प्रसिद्ध मौसम विज्ञानी प्रो. एसएन पांडेय की मानें तो अभी आगामी तीन-चार दिनों तक अधिकतम तापमान में बढ़ोतरी जारी रहने से दिन में गर्मी और तीखी धूप में कमी के आसार नजर नहीं आ रहे। सुबह से ही हो रही तीखी धूप ने लोगों का बाहर निकलना मुश्किल कर दिया है। मंगलवार की ही बात करें तो अधिकतम तापमान 34.8 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। जबकि न्यूनतम तापमान 22.8 डिग्री सेल्सियस रहा। बीते तीन दिनों में अधिकतम तापमान में 0.4 डिग्री की बढ़त रिकार्ड की गई तो न्यूनतम तापमान में एक डिग्री सेल्सियस की गिरावट दर्ज की गई। हवा की गति महज पांच किमी प्रति घंटा रही, वह भी अधिकांश समय बंद प्राय ही रही। जबकि आर्द्रता में जरूर कुछ कमी आई है। जो बुधवार को और कम होगी।

बुधवार की सुबह से हुई तेज-तीखी धूप ने आमजन को बेहाल करना शुरू कर दिया है। सुबह साढ़े दस बजे के बाद ही 32 डिग्री सेल्सियस पहुंचे तापमान के अभी और बढ़ते ही जाने की उम्मीद है। आर्द्रता घटकर 58 डिग्री हो जाने से उमस तो कम रहेगी, मगर चिलचिलाती धूप की वजह से पसीना भी निकलेगा। हालांकि, मौसम का रुख अब सुबह गुलाबी ठंड की ओर होने जा रहा है। 

Edited By: Abhishek Sharma