वाराणसी, जेएनएन। पूर्वांचल में भले ही इन दिनों गर्मियों ने कोहराम मचा रखा हो मगर दक्षिण भारत में सप्‍ताह भर की देरी से शनिवार को अपनी आमद दर्ज करा ही दी। मानसून ने केरल और तमिलनाडु में अपनी दस्‍तक देने के साथ ही मानसून की पहली बारिश भी कराई है। अब मानसून ने गति भी पकड़ी है लिहाजा देरी से पूर्वांचल में मानसून की दस्‍तक की संभावना के बीच मानसून 15 से 22 जून के बीच पहुंचने की संभावना है।

हालांकि तय समय के अनुसार मानसूनी सक्रियता बढ़ी तो पूर्वांचल में मानसून इस माह के अंत तक सामान्‍य बारिश करा सकता है। हालांकि मौसम विज्ञानी भी इस बार सामान्‍य बारिश की संभावना जता चुके हैं। वहीं मानसून आने के पूर्व पूर्वांचल में प्री मानसूनी बरसात की सूरत भी बनने से सप्‍ताह भर में बादलों की आवाजाही भी हो सकती है। पहाडों पर लगातार हो रही बारिश का असर पूर्वांचल तक आने से कुछ जगहाें पर बूंदाबांदी के साथ तेज हवाओं का भी रुख रहेगा। 

वहीं शनिवार की देर शाम तक मौसम काफी तल्‍खी भरा रहा। गर्मी की वजह से सुबह से ही लोग पसीने पसीने होते रहे। दिन चढ़ने के साथ ही सूरज की तल्‍खी भी बढ़ती गई और पूर्वांचल में पारा भी सामान्‍य से काफी अधिक दर्ज किया गया। इस दौरान अधिकतम तापमान 44.4 डिग्री दर्ज किया गया जो सामान्‍य से चार डिग्री अधिक और न्‍यूनतम तापमान 29.9 डिग्री दर्ज किया गया जो सामान्‍य से तीन डिग्री अधिक रहा। इस लिहाज से पूर्वांचल में पारा सामान्‍य से तीन से चार डिग्री अधिक दर्ज किया गया है। सुबह और शाम को इसी वजह से लोग पसीना-पसीना भी होते रहे।  

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek Sharma