वाराणसी, जेएनएन। मौसम का रुख अचानक बदलने से सोमवार की सुबह भी बादलों के कैद में रही और कोहरा का असर समूचे पूर्वांचल पर छाया रहा। इस दौरान कुछ इलाकों में मामूली बूंदाबांदी भी दर्ज की गर्इ। मौसम विभाग ने पूर्व में ही मौसम के बदलने का अंदेशा जता दिया था लिहाजा मौसम का यह बदलाव अपेक्षित ही था। हालांकि मौसम विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट में बादलों का यह डेरा सोमवार को खत्‍म होने की संभावना जताई गई है जबकि दूसरी ओर 25 अक्‍टूबर को दोबारा बादलों की सक्रियता का अंदेशा जताया गया है। इस लिहाज से अक्‍टूबर माह का अंतिम पखवारा बादलों की आवाजाही में बीतने की उम्‍मीद है।

मौसम विज्ञानियों के अनुसार पूर्वांचल में पुरवा हवा का रुख होने की वजह से बंगाल की खाड़ी से होकर पर्याप्‍त नमी पहुंच रही है। आने वाले दिनों में भी बादनों की इस वजह से सक्रियता हो सकती है। हालांकि बारिश भी मामूली तौर पर होने की उम्‍मीद है। पूर्वांचल में बादलाें की सक्रियता के बीच लगातार कोहरे का असर दिख रहा है। आने वाले दिनों में भी ओस और कोहरे का असर सघन होता जाएगा। 

बीते चौबीस घंटों में अधिकतम तापमान ने पांच डिग्री का गोता लगाया और तापमान 27.2 डिग्री तक पहुंच गया। आम तौर पर अधिकतम और न्‍यूनतम तापमान में दस से 12 डिग्री का फासला होता है मगर यह फासला भी न्‍यूनतम 22.4 डिग्री के साथ पांच डिग्री का ही रह गया। हालांकि न्यूनतम पारा तीन डिग्री अधिक रहा। वहीं आर्द्रता इस दौरान अधिकतम 93 और न्‍यूनतम 87 फीसद रही। जबकि इस दौरान 1.1 मिमी बारिश भी दर्ज की गई। मौसम विभाग की ओर से जारी सैटेलाइट तस्‍वीराें में उत्‍तर प्रदेश मध्‍य से पूर्वांचल तक बादलों का डेरा बना हुआ है। वातावरण में पर्याप्‍त नमी मिली तो सोमवार को भी कुछ इलाकों में बारिश हो सकती है। 

Posted By: Abhishek Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस