वाराणसी, जेएनएन। रेल राज्यमंत्री सुरेश सी अंगडी ने डीरेका (DLW) द्वारा निर्मित 275 वें विद्युत रेल इंजन WAP-7 का गुरुवार की सुबह लोकार्पण किया। डीरेका (डीजल रेल कारखाना) में Wap-7 पैसेंजर मोड का 6000 एचपी का लोको है। यह 25000 वोल्ट ओवरहेड की सप्लाई लेकर संचालित होता है। पूरी तरह इलेक्ट्रिक होने की वजह से इसमें डीजल की आवश्यकता नहीं पड़ती है। इससे पर्यावरण प्रदूषण रोकने में भी काफी मदद मिलेगी।

यह इंजन काफी आधुनिेक है जिसमें ड्राइवर के बैठने की सुविधा के साथ ही एसी कैब व हीटर कैब लगाई गई है। इंजन में एडवांस ब्रेकिंग सिस्टम है। संरक्षा के लिहाज से भी इंजन को उच्‍च मानकों पर तैयार किया गया है। जिसकी वजह से पायलट को भी काफी सहूलियत होगी। लोकार्पण के दौरान जीएम रश्मि गोयल, डीआरएम वी के पंजियार समेत कई प्रमुख अधिकारी मौजूद रहे।

रेल राज्यमंत्री एससी अंगडी ने गुरुवार को डीजल रेल इंजन कारखाना में निर्मित 275 वें विद्युत इंजन संख्या 37248 का लोकार्पण कर जनता की सेवा में समर्पित किया। 6000 हार्स पॉवर वाला 'डब्ल्यूएपी-7Ó पश्चिमी मध्य रेल के विद्युत शेड तुगलकाबाद के बेड़े में शामिल होगा। खासियत चालक के बैठने की वातानुकूलित व्यवस्था है। रेल राज्यमंत्री ने साल-दर-साल सफलता की नई गाथा लिखने के लिए डीरेका कर्मियों को बधाई दी।

राज्यमंत्री करीब 15 मिनट विलंब से कार्यक्रम स्थल पहुंचे तो गार्ड ऑफ आनर से उनका स्वागत हुआ। उसके बाद विद्युत इंजन को हरी झंडी दिखाकर लोकार्पित किया। लोको बेहतर सजावट के कारण आकर्षक लग रहा था। इससे पूर्व उन्होंने कारखाना के अधिकारियों संग विद्युत इंजन में चालकों के लिए बनाए वातानुकूलित कैब (इंजन का अगले हिस्से में बैठने को बना हिस्सा) का निरीक्षण किया। उसके बाद कारखाना की व्यवस्थाएं देखने पहुंचे। महाप्रबंधक रश्मि गोयल से विद्युत इंजन की खासियत एवं भविष्य की रणनीति के बारे में जानकारी की। वाराणसी रेल मंडल के प्रबंधक सुरेश पंजियार, डीआरएम मुगलसराय पंकज सक्सेना, एडीआरएम लखनऊ रवि चतुर्वेदी, मुख्य विद्युत इंजीनियर एके सिंघल, प्रमुख मुख्य सामग्री प्रबंधक डीएस जंगपांगी, प्रमुख मुख्य कार्मिक अधिकारी एके सिंह इत्यादि लोग मौजूद रहे।

कर्मचारियों की सराहना, लेकिन निगमीकरण पर गोलमोल जवाब

रेल राज्यमंत्री एससी अंगडी ने डीजल इंजन रेल कारखाना के पर्फामेंस की सराहना की। लेकिन कारखाना के निगमीकरण के सवाल पर गोलमोल जवाब दिए। तस्वीर स्पष्ट करने की बात पर इतना कहाकि निवेश को बढ़ावा देने के लिए रणनीति बनाई है।

दो दिवसीय दौरा पूरा करने के बाद रेल राज्यमंत्री गुरुवार को मीडिया से मुखातिब थे। उन्होंने डीरेका कर्मियों के काम संतुष्टि जताई। बोले उत्पादन  एवं प्रौद्योगिकी कुशलता में अग्रणी डीरेका ने ग्राहकों की परिवर्तनशील मांगों के अनुरूप अपनी क्षमता को प्रदर्शित किया है। 275 वें विद्युत इंजन का लोकार्पण इसका प्रमाण है। कारखाना प्रशासन इससे इतर भी कई तरह की उपलब्धियां हासिल करने की दिशा में काम कर रहा है। रेल राज्यमंत्री के दौरे से डीरेका कर्मियों को बड़ी उम्मीद थी। सच्चाई सामने आने पर निराशा सामने आई। 

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप