वाराणसी :पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र में जनवरी 2019 में प्रस्तावित तीन दिवसीय प्रवासी भारतीय दिवस में शिरकत करने वाले प्रवासी भारतीयों के लिए गंगा पार रेती में गांव बसाने की तैयारी है। खेल गांव की तर्ज पर गंगा पार रेती में बनने वाले इस गांव में अत्याधुनिक सुविधाओं से लैस टेंट लगाए जाएंगे। इसका प्रस्ताव तैयार कराकर कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने प्रमुख सचिव व पर्यटन महानिदेशक अवनीश कुमार अवस्थी को दिया।

अगले साल 21 से 23 जनवरी के बीच काशी में प्रस्तावित प्रवासी भारतीय दिवस की तैयारियों के लिए लखनऊ में मंगलवार को बैठक हुई। कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि काशी में प्रस्तावित प्रवासी भारतीय दिवस के आयोजन के लिए शासन को फिलहाल तीन स्थान पं. दीनदयाल हस्तकला संकुल, डीरेका और गंगा किनारे का प्रस्ताव दिया गया है। प्रवासी भारतीयों के रहने व आयोजन स्थल को देखने के लिए 11 मई को एनआरआइ, विदेश व्यापार राज्यमंत्री स्वाति सिंह के नेतृत्व में प्रमुख सचिव अवनीश कुमार अवस्थी व एनआरआइ विभाग के विशेष सचिव आलोक कुमार सिंह का आना प्रस्तावित है। शासन स्तर पर आयोजन स्थल फाइनल होने के बाद 16 मई को दिल्ली में विदेश मंत्रालय के साथ बैठक होगी। विदेश मंत्रालय ही आयोजन स्थल पर अंतिम मुहर लगाएगा।

कमिश्नर ने बताया कि कुंभ के चलते प्रवासी भारतीय दिवस में सात हजार से अधिक लोगों के आने की संभावना है। अभी से उनके ठहरने व खाने-पीने के इंतजाम के लिए सभी प्रमुख स्थानों को देखा जा रहा है। 15वें प्रवासी भारतीय दिवस-2019 का आयोजन 21 से 23 जनवरी के बीच प्रस्तावित है। पीएम मोदी की हरी झंडी के बाद काशी में आयोजन की तैयारी शुरू कर दी गई है। कार्यक्रम का शुभारंभ पीएम मोदी करेंगे। प्रवासी भारतीय दिवस आयोजन में कई देशों के राष्ट्राध्यक्षों के भी शामिल होने की संभावना है। इस आयोजन के जरिए देश में व्यापार व पर्यटन को भी बढ़ावा देना मुख्य मकसद है। साथ ही निवेश पर भी जोर दिया जाएगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप