वाराणसी, इंटरनेट डेस्‍क। बनारस शहर की कई खबरों ने रविवार यानी 26 जून को चर्चा बटोरी जिनमें सीएम योगी के हेलीकाप्‍टर की इमरजेंसी लैंडिंग, बीएचयू एमटेक के छात्र ने फांसी लगाकर दी जान, जेल में बंद युवाओं से मिलने पहुंचा कांग्रेस दल, ट्रक से कुचलकर साइकिल सवार दो युवकों की मौत, आकांक्षा बोलीं - 'बहुत खेल लिया अब खिलाड़‍ियों को बनाने का समय है' आदि प्रमुख खबरें रहीं। जानिए शाम 7 बजे तक की शहर-ए-बनारस की पांच प्रमुख और चर्चित खबरें।

आसमान में 1550 फीट की ऊंचाई पर सीएम योगी के हेलीकाप्‍टर से टकराया पक्षी, इमरजेंसी लैंडिंग

मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का हेलीकाप्‍टर उड़ान भरने के बाद दोबारा लैंड कराया गया। मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ का हेलीकॉप्टर फिर वापस आया तो हड़कंप मच गया। जिला मुख्यालय पर आनन फानन फिर से सुरक्षा कड़ी कर दी गई।

पु‍लिस अधिका‍रियों ने बताया कि हेलीकॉप्टर में कुछ खराबी आने की वजह से उसे वापस लैंड करना पड़ा। इसके बाद मुख्‍यमंत्री योगी आदित्यनाथ सड़क मार्ग से बाबतपुर एयरपोर्ट रवाना हो गए। लगभग दो घंटे की देरी के बाद सीएम राजकीय विमान से 11 बजे लखनऊ रवाना हो गए। विमानन सेवा से जुड़े अधिकारियों के अनुसार जिस समय मुख्यमंत्री के हेलीकाप्टर से पक्षी टकराया उस समय हेलीकाप्टर पिसौर गांव के ऊपर 1550 फीट की ऊंचाई पर था और 190 किमी/घंटा की गति हेलीकाप्‍टर की थी।

प्लेसमेंट न होने के कारण डिप्रेशन में बीएचयू एमटेक के छात्र ने फांसी लगाकर दी जान

आइआइटी स्थित विश्वश्वरैया हॉस्टल में एमटेक चतुर्थ सेमेस्टर के छात्र भगवान सिंह निवासी हाथरस ने कमरे में फांसी लगाकर जान दे दी। छात्र भगवान सिंह के पिता कृष्ण कुमार सिंह किसान हैं। मौके पर मौजूद छात्रों ने पुलिस को बताया की मैकेनिकल इंजीनियरिंग में पढ़ाई करता था। पिछले काफी समय से प्लेसमेंट को लेकर डिप्रेशन में रहता था।

शनिवार की सुबह से ही कमरे से बाहर नहीं निकला था। आत्महत्या की सूचना पर पहुंची पुलिस और आइआइटी के अधिकारी मौके पर लोगों से बातचीत और जांच कर के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिए। इंस्पेक्टर लंका वेद प्रकाश राय ने बताया कि शव पंखे के सहारे रस्सी में लटक रहा था जिसे फील्ड यूनिट टीम को बुलाकर जांच के बाद नीचे उतारा गया। शव देखकर प्रतीत हो रहा है कि शनिवार की सुबह में ही फांसी लगाया है। पुलिस ने पिता को सूचना दे दिया है। परिवार के लोग सूचना पर वाराणसी के लिए रवाना हो गए हैं।

सेना भर्ती के नए नियम के खिलाफ आंदोलनरत जेल में बंद युवाओं से मिलने पहुंचा कांग्रेस दल

सेना भर्ती के नए नियम के खिलाफ आन्दोलनरत वाराणसी जिला जेल में बंद छात्रों से उप्र कांग्रेस कमेटी के निर्देशानुसार उप्र कांग्रेस कमेटी का एक प्रतिनिधिमंडल मुलाकात के लिए रविवार को जिला कारागार वाराणसी पहुंचा जहां जिला जेल प्रशासन ने मिलने नहीं दिया। उक्त प्रतिनिधि मंडल में पूर्व मंत्री/विधायक अजय राय,पूर्व सांसद राजेश मिश्रा,प्रदेश उपाध्यक्ष विश्वविजय सिंह,महानगर अध्यक्ष राघवेंद्र चौबे, जिलाध्यक्ष राजेश्वर पटेल, प्रदेश उपाध्यक्ष मकसूद खां, प्रदेश सचिव कमलेश ओझा, प्रदेश सचिव इमरान खान,प्रदेश महासचिव देवेन्द्र सिंह, प्रदेश महासचिव सरिता पटेल, जिलाध्यक्ष चन्दौली धर्मेंद्र तिवारी, शहर अध्यक्ष चंदौली रामजी गुप्ता रहे।

ट्रक से कुचलकर साइकिल सवार दो युवकों की मौत, मुआवजे को लेकर ग्रामीणाें ने किया चक्‍काजाम

मिर्जामुराद में साइकिल सवार युवकों की मौत के बाद ग्रामीणों ने मुआवजे की मांग को लेकर चक्काजाम कर दिया। वहीं जानकारी होने के बाद पहुंची पुलिस ने लोगों को समझा बुझाकर जाम को खत्‍म कराया। वहीं हादसे की जानकारी होने के बाद स्वजनों में कोहराम मच गया।

कछवां-कपसेठी मार्ग पर छतेरी गांव के पास रविवार को प्रातः करीब पांच बजे तेज रफ्तार ट्रक से कुचलकर कर इरफान अली (19) व कैफ अंसारी (18) नामक साइकिल सवार युवको की मौत हो गयी। मृतक बुनकरी का काम करता थे। ट्रक के भाग जाने से आक्रोशित ग्रामीण मुआवजे की मांग को लेकर कुछ देर के लिये सड़क पर चक्का जाम भी किये। थानाप्रभारी हरिनाथ भारती ने ग्रामीणों को समझा-बुझाकर जाम समाप्त करा शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

बास्‍केटबाल खिलाड़ी आकांक्षा बोलीं - 'बहुत खेल लिया अब खिलाड़‍ियों को बनाने का समय है'

विश्‍वभर में भारतीय बास्‍केटबाल की टीम की ओर से अपनी मेधा का परचम फहराने वाली सिंह सिस्‍टर्स में शामिल आकांक्षा सिंह ने अब कोर्ट से बाहर देश के लिए नई प्रतिभाओं को तराशने की पहल शुरू की है। इस बाबत आकांक्षा सिंह ने दैनिक जागरण को बताया कि बहुत खेल लिया अब खिलाड़‍ियों को बनाने का समय है। उन्‍होंने जानकारी दी कि वाराणसी ही नहीं उनके आधुनिक स्‍केटबाल प्रशिक्षण सेंटर में देश का कोई भी खिलाड़ी शामिल होकर अपनी प्रतिभा को संवार सकता है।

आकांक्षा सिंह भारतीय बास्‍केटबाल टीम की पूर्व कप्‍तान रह चुकी हैं। देश की शीर्ष चार बास्‍केटबाल खिलाड़‍ियों में शामिल रहीं आकांक्षा सिंह वाराणसी जिले की रहने वाली हैं और 14 साल देश के लिए बास्‍केटबाल कोर्ट में अपनी प्रतिभा दिखा चुकी हैं। उनके साथ ही सिंह सिस्‍टर्स में शामिल अन्‍य बहनें किसी परिचय की मोहताज नहीं हैं। कोर्ट में सिंह सिस्‍टर्स का जलवा ऐसा था कि लंबे समय तक भारतीय बास्‍केटबाल टीम की वह पहचान बनी रहीं। अब वह कोर्ट में बतौर कोच और बास्‍केटबाल के लिए खिलाड़ी तैयार करने के लिए अपनी सेवा देने की जानकारी साझा की है।

Edited By: Saurabh Chakravarty