वाराणसी, जेएनएन। संक्रामक बीमारियों को दूर भगाने की अधिष्ठात्री देवी मां शीतला की शरण में शुक्रवार की सुबह जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा सपत्नीक पहुंचे। सुबह की मंगल आरती के बाद पहुंचे डीएम ने माँ को दीप दिखाकर उनकी आराधना की और वैश्विक महामारी कोरोना के समूल नष्ट होने की कामना की। दशाश्वमेध घाट स्थित माँ शीतला दरबार के उप महंत अवशेष पांडेय उर्फ़ कल्लू महाराज ने बताया कि सुबह मंगला आरती ख़त्म होने के ठीक बाद पहुचे जिलाधिकारी ने कोरोना महामारी के ख़त्म होने की कामना की । कुछ देर रुकने के बाद वे चले गए। इसके बाद मंदिर बंद कर दिया गया।

 संपूर्ण विश्व कोरोना महामारी से त्रस्त है। इसकी कोई दवा नहीं आई है। वहीं मानवता कराह रही है। ऐसे में काशी के संतों ने अध्यात्म का सहारा लिया है। बीते रविवार यानी 24 मई को काशी के दंडी संन्यासियों ने 21 बार सस्वर हनुमान चालीसा का पाठ कर विश्व शांति एवं कोरोना के प्रकोप को समाप्त करने के लिए ईश्वर से प्रार्थना की थी। भारतीय जनता पार्टी प्रबुद्ध प्रकोष्ठ के तत्वावधान में आयोजित इस कार्यक्रम में दंडी संन्यासियों ने विश्व शांति के लिए हनुमान चालीसा एवं शांति पाठ का वाचन किया था।

कथा संपूर्ण विश्व कल्याण की कामना की प्रबुद्ध प्रकोष्ठ काशी क्षेत्र के संयोजक डॉक्टर सुनील मिश्रा ने का कहना था कि जब भौतिक शक्तियां असफल होती है तब अध्यात्मिक शक्तियों का सहारा लिया जाता है। काशी के संतों ने अध्यात्मिक शक्ति को जागृत करने का जो प्रयास किया है इससे महामारी के समाप्ति में मदद मिलेगी। संतो द्वारा किए गए इस प्रयास से वातावरण में परिवर्तन होगा जो कि एक सकारात्मक ऊर्जा से नासिक भारत को बल्कि पूरे विश्व को प्रभावित करेगा। वर्तमान में वाराणसी में कोरोना का प्रकोप जारी है। यहां कोरोना संक्रमितों की संख्‍या में लगातार इजाफा हो रहा है। हालांकि प्रशासन इसको रोकने के लिए हरसंभव प्रयास कर रहा है।

 

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस