वाराणसी, जेएनएन। संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय से संबद्ध कालेज अब बीस सितंबर तक दाखिला ले सकते हैं। विश्वविद्यालय ने पहले प्रवेशित छात्रों का आंकड़ा सात सितंबर तक वेबसाइट पर अपलोड करने का निर्देश दिया था। अंकपत्र के अभाव में शास्त्री-आचार्य के करीब 18000 विद्यार्थी अब भी अगली कक्षा में पंजीकरण नहीं करा सके हैं। इसे देखते हुए विश्वविद्यालय ने संबद्ध कालेज के छात्रों को रजिस्ट्रेशन कराने का एक मौका और दे दिया है।

सत्र-2018-19 में शास्त्री-आचार्य में 53849 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल हुए थे। शास्त्री-आचार्य परीक्षा का परिणाम जुलाई में ही जारी हो गया था लेकिन अंकपत्र न मिलने के कारण दूरदराज के तमाम महाविद्यालयों के छात्र अगली कक्षा में पंजीकरण नहीं करा सके थे। अब तक करीब 36000 छात्र ही रजिस्ट्रेशन कराए हैं। गत दिनों विश्वविद्यालय ने संबद्ध कालेजों के परीक्षार्थियों को शास्त्री-आचार्य का अंकपत्र जारी कर दिया। अंकपत्र जारी होने के बाद पंजीकरण कराने वाले छात्रों की संख्या तेजी से बढ़ रहीं है। वहीं महाविद्यालयों के अनुरोध पर विवि ने पंजीकरण कराने की तिथि 20 सितंबर तक बढ़ा दी है। कुलसचिव राज बहादुर के मुताबिक महाविद्यालय अब प्रवेश आवेदन की हार्ड कापी 27 सितंबर तक जमा कर सकते हैं। 

सालभर बाद मिली उपाधि

संबद्ध कालेजों को वर्ष 2019 की परीक्षा का अंकपत्र, क्रासलिस्ट व वर्ष 2018 के परीक्षा की उपाधि के लिए सात सितंबर से नौ सितंबर तक विवि बुलाया गया था। ज्यादातर महाविद्यालय अंकपत्र व उपाधि ले जा चुके हैं। ऐसे में परीक्षा के एक साल बाद परीक्षार्थियों को उपाधि मिलने की उम्मीद जग गई है।  

Posted By: Saurabh Chakravarty

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप