जागरण संवाददाता, वाराणसी : विधानसभा चुनाव की तैयारियां अंतिम चरण में हैं। परिक्षेत्र के जिलों वाराणसी ग्रामीण, जौनपुर, पुलिस शांति पूर्ण व निष्पक्ष ढंग से चुनाव संपन्न कराने में कोई कोर कसर बाकी नहीं रखना चाहती है। परिक्षेत्र के पुलिस महानिरीक्षक के सत्यनारायण से जागरण प्रतिनिधि ने बातचीत की, जिसमें उन्होंने तैयारियों, कार्रवाई सहित चुनाव संपन्न कराने के महत्वपूर्ण बिंदुओं पर विस्तार से जानकारी दी।

सवाल : संगठित अपराध चुनाव को किस स्तर तक प्रभावित कर सकता है।

जवाब : सरकार ने संगठित अपराध व गिरोहों की कमर तोड़ दी है। इसका असर भी इस चुनाव में दिखाई देने लगा है। विधान सभा चुनाव को लेकर परिक्षेत्र में गाजीपुर सबसे अधिक संवेदनशील है। बांदा जेल में बंद विधायक मुख्तार अंसारी व उसके गुर्गों की गाजीपुर में ही करीब दो अरब करोड़ की संपत्ति जब्त की जा चुकी है। जिला बदर अपराधियों की जांच कराई जा रही है। कहीं वे अपने गृह स्थान पर तो नहीं रह रहे हैं। अपराधियों के कार्य क्षेत्र में पडऩे वाले मतदान केंद्र अति संवेदनशील श्रेणी में चिह्नित किए गए हैं। इन केंद्रों पर अतिरिक्त फोर्स की तैनाती की जाएगी।

सवाल : पुलिस की क्या कार्य योजना है।

जवाब : चुनाव को सकुशल संपन्न कराने के लिए परिक्षेत्र के सभी थानों के लिए 25 बिंदु तैयार किए गए हैं। इन्हीं बिंदुओं पर पुलिस काम कर रही है। इनमें हिस्ट्रीशीटर की निगरानी, उनके वर्तमान गतिविधियों की जानकारी, जमानत पर छूटे अपराधियों की निगरानी व उसकी गतिविधियों के बारे में पता करना। चुनाव के दौरान पूर्व में घटित अपराधों में पीडि़तों की क्या स्थिति है। पुलिस के कौन मददगार हैं। खासकर मतदान केंद्रों के आसपास के लोगों को चिह्नित किया जा रहा है। पैरा मिलिट्री फोर्स की तैनात उन जगहों पर की गई है जहां पूर्व में घटनाएं हुई हैं।

सवाल : अब तक जिलों में क्या कार्रवाई हुई हैं।

जवाब : चुनाव के मद्देनजर परिक्षेत्र के जिलों जौनपुर में शांति भंग की आशंका में 5821, चंदौली में 4414, वाराणसी ग्रामीण में 3012 व गाजीपुर में 4694 लोगों को अब तक पाबंद किया जा चुका है। आचार संहिता लगने के बाद गड़बड़ी व खलल डालने वालों के रूप में 1692 लोगों को चिह्नित किया गया है। इसी तरह पिछले चुनाव के आधार पर 423 मोहल्ले व मजरे चिह्नित किए गए, जहां गड़बड़ी या माहौल बिगाडऩे की आशंका है।

सवाल : परिक्षेत्र में कितने मतदान संवेदनशील हैं।

जवाब : परिक्षेत्र में कुल 823 मतदान केंद्र व 1788 मतदेय स्थल संवेदनशील हैं। पुलिस का फोकस संवेदनशील व अति संवेदनशील केंद्रों पर ज्यादा है। विभिन्न जिलों में ऐसे वोटर भी चिह्नित किए गए हैं जिनसे गड़बड़ी करने या माहौल बिगाडऩे की आशंका है। परिक्षेत्र के जिलों में ऐसे कुल 2025 अतिसंवेदनशील वोटर हैं। इनकी निगरानी बढ़ा दी गई है।

परिक्षेत्र के आइजी के सत्यनारायण का प्रोफाइल

- 1998 बैच के आइपीएस

- आंध्रप्रदेश के मूल निवासी

- आंध्र विश्वविद्यालय से एमए अर्थशास्त्र

- आगरा में एएसपी के पद पर पहली नियुक्ति, एसपी सोनभद्र, मीरजापुर व वाराणसी में एसपी इंटेलीजेंस भी रहे।

Edited By: Saurabh Chakravarty