वाराणसी, जेएनएन। यूपी बोर्ड की 18 फरवरी से शुरू हो रही दसवीं व बारहवीं की परीक्षाओं पर मुख्यमंत्री व डिप्टी सीएम की भी निगाहें टिकी हुई है। शासन स्तर पर परीक्षा की वेबकास्टिंग लगातार मानीटरिंग की जा रही है। शासन हाईस्कूल व इंटर की परीक्षा नकल विहीन कराने के लिए कटिबद्ध है। शासन की मंशा को देखते हुए परीक्षाओं में नकल रोकने के लिए जनपद को पांच जोन में बांटा गया है। इसके अलावा 18 सेक्टर बनाए गए हैं। सभी जोन व सेक्टर में एक-एक मजिस्ट्रेट की नियुक्ति की गई है। इसके अलावा तीनों संवेदनशील केंद्रों पर पर्यवेक्षक तैनात किए जाएंगे।

परीक्षा की ऑनलाइन निगरानी के लिए जनपदीय स्तर राजकीय क्वींस कालेज में कंट्रोल में बनाया गया है। जिला युवा कल्याण अधिकारी रमेश प्रताप सिंह व सहायक वित्त व लेखाधिकारी आनंद शंकर मिश्र कंट्रोल रूम के प्रभारी बनाए गए हैं। वहीं डीएम स्तर पर परीक्षा की निगरानी के लिए एडीएम सिटी को कमान सौंपी गई है। उधर शासन स्तर पर केंद्रों के मानकों की पड़ताल के लिए शिक्षा निदेशालय, प्रयागराज के उप शिक्षा निदेशक रामचैत को जिम्मेदारी सौंपी गई है। डीआइओएस डा. वीपी सिंह ने बताया कि कंट्रोल रूम प्रोजेक्टर भी लगवा दिए गए हैं। इसके अलावा एक बड़ी स्क्रीन भी लगवाई जा रही है ताकि किसी भी केंद्र को आसानी से देखा जा सके। उधर बोर्ड परीक्षा की तैयारियों को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आठ फरवरी को शिक्षा अधिकारियों की वीडियो कांफ्रेंसिंग बुलाई है।

मंडल में जनपदवार परीक्षार्थियों व केंद्रों की संख्या इस प्रकार है

जनपद      परीक्षार्थी     केंद्र

जौनपुर       182349     238

गाजीपुर      177601     228

वाराणसी     108215     142

चंदौली          70247       95

योग           538412      703

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस