बलिया, जेएनएन। बीती रात बेकाबू स्कार्पियो ने एक ही परिवार के तीन लोगों को रौंद दिया। इस हादसे में घायल पति की जहां मौके पर ही मौत हो गई वहीं जिला चिकित्सालय ले जाते समय पत्नी ने भी दम तोड़ दिया। घायल पुत्रवधू का इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। मनियर-सिकंदरपुर मार्ग स्थित पश्चिम पटखौली गांव के पास बुधवार की देर हुए हादसे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने दोनों शव को कब्जे में लेकर अन्त्य परीक्षण के लिए भेज दिया।

शहर कोतवाली क्षेत्र के कदम चौराहा निवासी अशोक राजभर (60वर्ष) अपनी पत्नी सुमित्रा देवी (55) व पुत्रवधू रामिनी देवी (35) पत्नी प्रभु राजभर के साथ पश्चिम पटखौली निवासी अपने श्वसुर श्रीराम राजभर के यहां एक दशक से नवरसा पर रहते थे। बुधवार की रात अशोक सड़क किनारे अपने दरवाजे पर पत्नी के साथ बैठे थे। रात करीब 10 बजे पुत्रवधू रामिनी सास व श्वसुर को भोजन लेकर पहुंची थी। अभी रामिनी ने भोजन की थाली सौंपा भी नहीं था कि सिकंदरपुर की तरफ आ रही तेज रफ्तार स्कार्पियो बेकाबू होकर तीनों को रौंदते हुए निकल गई।

चीख-पुकार की आवाज सुनकर आस-पास के लोग मौके पर पहुंचे और गंभीर रुप से घायल तीनों को स्थानीय पीएचसी पहुंचाया, जहां डाक्टर ने अशोक राजभर को मृत घोषित कर दिया। वहीं सास व पुत्रवधू की गंभीर स्थिति को देखते हुए जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। उधर जिला चिकित्सालय ले जाते समय रास्ते में सुमित्रा की भी मौत हो गई जबकि वधू रामिनी का जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। उधर एक ही परिवार में दो लोगों की मौत से कोहराम मच गया। परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है।

ई-रिक्शा को बचाने के प्रयास में टेंपो पलटा, पति-पत्नी घायल

रेवती-बांसडीह मार्ग पर जिन्नबाबा स्थान के पास गुरुवार को ई-रिक्शा को बचाने के प्रयास में टेंपो पलट गया। जिसमें सवार पति-पत्नी गम्भीर रुप से घायल हो गये। मौके पर पहुंचे लोगों ने दोनों घायलों को चिकित्सालय भेजवाया। जहां उनका ईलाज चल रहा है। रेवती थाना क्षेत्र के गायघाट निवासी सोनू चौहान (28) पुत्र परमात्मा अपनी पत्नी सरिता (24) के साथ किसी कार्यवश टेंपो से बांसडीह जा रहा था। अभी वह क्षेत्र के जिन्नबाबा स्थान के नजदीक पहुंचे ही थे कि सामने से तेज गति से आ रहे ई-रिक्शा को बचाने के प्रयास में टेंपो असंतुलित हो पलट गयी।

Edited By: Saurabh Chakravarty