वाराणसी, जेएनएन। जौनपुर आैर वाराणसी में अलग - अलग जगहों पर ट्रेन से कटकर दो युवकों की सोमवार को मौत हो गई। पहला हादसा वाराणसी के चौबेपुर में हुआ जहां स्थानीय कादीपुर व सारनाथ रेलवे स्टेशन के बीच पर्वतपुर (गौरडीह) गांव के समीप सोमवार की सुबह रेलवे ट्रैक पर कटे एक युवक का शव मिला। यहां के ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को दी तो पुलिस ने पहुंचकर शव को कब्‍जे में लिया।

कादीपुर व सारनाथ रेलवे स्टेशन के बीच पर्वतपुर गांव के समीप सोमवार की सुबह रेलवे ट्रैक पर कटे हुए शव की पहचान मंजेश श्रीवास्तव के बेटे विशाल श्रीवास्तव (24) निवासी ग्राम सथवा थाना सारनाथ के रूप में हुई। मौके पर पहुंची रेलवे पुलिस व चौबेपुर पुलिस ने परिजनों को सूचना दी। लड़के के पिता मंजय श्रीवास्तव घटनास्थल पहुंचे और बताया कि विशाल रविवार की शाम चार बजे घर से पैदल निकला था। रात में घर नहीं आया तो सोमवार की सुबह उसके शव मिलने की सूचना लोगाें से मिली। शव मिलने की सूचना पर पहुंचे पिता ने बताया कि वह इकलौता बेटा था। उसकी शादी 4 माह पूर्व 25 जून को पायल देवी धनेछा बिहार के साथ हुई थी। परिजन पहले  पोस्टमार्टम नहीं कराना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने ऐसा करने से मना कर दिया। चौबेपुर पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

पिता की डांट से क्षुब्ध होकर ट्रेन से कटकर दी जान

वाराणसी - प्रतापगढ़ रेल मार्ग पर स्थित जंघई निभापुर स्टेशन के बीच नडार गांव के पास सोमवार की सुबह रेलवे लाइन पर ट्रेन से कटे किशोर का शव मिलने से सनसनी फैल गई। मामले की जानकारी होते ही आसपास ग्रामीणों की भारी भीड़ जमा हो गई। मृतक की नडार गांव निवासी रंजीत के बेटे 16 वर्षीय सचिन चौहान के रूप में पहचान हुई। घटना के बाद परिजनों में कोहराम मच गया। मृतक सचिन रविवार के दिन से ही पिता की डांट के बाद नाराज हो गया था। सूचना पर पहुची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

मुगरबादशाहपुर थाना क्षेत्र के नडार गांव निवासी रंनजीत चौहान किसी तरह मेहनत मजदूरी कर परिवार का भरण-पोषण करता है।

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप