वाराणसी, जेएनएन। चिकित्सा विज्ञान संस्थान-बीएचयू स्थित माइक्रोबायोलॉजी विभाग के लैब में गुरुवार को दो रियल टाइम थर्मल साइक्लर मशीन इंस्टाल कर दी गईं। शुक्रवार से ये काम करने लगेंगी। अब लैब में प्रतिदिन 200 सैंपल की जांच हो सकेगी। माइक्रोबायोलाजी विभाग के लैब में अभी एक ही मशीन थी जिससे सारे संसाधनों के उपयोग के बाद भी रोज 100 सैंपल ही जांचे जा सकते थे। डीएम कौशल राज शर्मा दोपहर बाद लैब का निरीक्षण करने पहुंचे। कहा कि नई मशीनें लग जाने से जांच में तेजी आएगी। इससे जहां मरीज की पहचान जल्द हो सकेगी, वहीं इलाज भी तुरंत शुरू कराया जा सकेगा। राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा. नीलकंठ तिवारी ने इन मशीनों की खरीद के लिए अपनी निधि से धनराशि दी थी तो किट के लिए विधायक सौरभ श्रीवास्तव ने उपलब्ध कराई थी। जांचे जा रहे पूर्वाचल के 18 जिलों व प्रयागराज- कौशांबी के सैंपल प्रदेश में सिर्फ किंग जार्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी लखनऊ, जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कालेज-एएमयू, पीजीआइ- लखनऊ व आइएमएस-बीएचयू के लैब में ही कोरोना जांच की सुविधा है। बीएचयू के लैब में बनारस सहित पूर्वाचल के 18 जिले व प्रयागराज-कौशांबी के सैंपल जांचे जा रहे हैं। निरीक्षण के दौरान सीएमओ डा. वीबी सिंह, बीएचयू अस्पताल एमएस प्रो. एसके माथुर व लैब इंचार्ज प्रो. गोपालनाथ मौजूद थे।

कोविड-19 वार रूम में 17 शिकायतें, नौ का समाधान

नगर निगम द्वारा संचालित कोविड-19 वाररूम में गुरुवार को शाम चार बजे तक 17 शिकायतें आईं। इनमें से 12 सफाई एवं दवा छिड़काव से संबंधित थीं। पांच शिकायतें सीवर एवं पानी से संबंधित थीं। इसमें महज नौ शिकायतों का समाधान किया गया। शेष के लिए नगर आयुक्त ने संबंधित विभागों को यथा शीघ्र समाधान के लिए कहा।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस