वाराणसी, जेएनएन। अब कैंट स्टेशन स्थित रेलवे यार्ड में ट्रेन की बोगियों की धुलाई ऑटोमेटिक मशीन से कराई जाएगी। इसके लिए यहां एक ऑटोमेटिक वाशिंग प्लांट स्थापित किया जा रहा है। लखनऊ मंडल मुख्यालय से निविदा भी जारी कर दी गई है। कोरोना काल के मद्देनजर मैनुअल धुलाई को समाप्त करने के लिए उत्तर रेलवे प्रशासन की तरफ से यह निर्णय लिया गया है। कैंट स्टेशन के रेलवे यार्ड में प्रस्तावित इस प्लांट के बाबत जमीन भी तलाश ली गई है। कुछ दिनों पूर्व मुख्यालय की टीम ने स्थलीय मुआयना भी किया था।

वाशिंग पिट पर जाने से पहले धुलाई

रेलवे यार्ड में ट्रेन की बोगियों में अनुरक्षण कार्य किया जाता है। यहां ज्यादातर कैंट स्टेशन से बनकर चलने वाली गाडिय़ों का ही अनुरक्षण होता है। इन गाडिय़ों को वॉशिंग पिट पर भेजने से पहले प्लांट से गुजरना होगा। ताकि ट्रैक के दोनों तरफ लगी मशीन से उनकी धुलाई हो सके। नियमित रूप से यहां 27 गाडिय़ों का अनुरक्षण किया जाता हैं। इन दिनों कोरोना काल के कारण महज चार ट्रेनों का ही अनुरक्षण कार्य चल रहा है। मंडल यांत्रिक अभियंता नितेश पांडेय का कहना है कि 'ऑटोमेटिक मशीन लगाने के लिए मुख्यालय स्तर पर निविदा जारी हो चुकी है। वर्क आर्डर मिलते ही काम शुरू हो जाएगा।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस