वाराणसी, जेएनएन। भारतीय रेलवे आम नागरिकों के लिए एक जून से 200 यात्री ट्रेनों का परिचालन शुरू करने जा रही है, जिनके लिए (21 मई) से आनलाइन टिकट बुकिंग तथा 22 मई से सीमित आरक्षण काउंटरों से टिकट बुकिंग चालू है। एक जून से चलने वाली ट्रेनों की रेलवे ने लिस्ट भी जारी कर दी है। यह 200 यात्री ट्रेनें पहले से चलाई जा रहीं 15 जोड़ी स्पेशल ट्रेनों और श्रमिक ट्रेनों के अतिरिक्त चलेंगी। इनमें एसी और नॉन एसी के अलावा जनरल कोच भी होंगे।

रेलवे की ओर से जारी सूची में महानगरी, कामायनी, शिवगंगा, दुरंतो, संपर्क क्रांति, जन शताब्दी और पूर्वा एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों के नाम हैं। यात्रियों की सुविधा के लिए  पूर्वोत्तर रेलवे के वाराणसी मंडल के प्रमुख स्टेशनों जैसे मंडुआडीह, गाजीपुर सिटी, बलिया, छपरा, सिवान, देवरिया, मऊ व आजमगढ़ के कम्प्यूटरीकृत यात्री आरक्षण केंद्र सिंगल शिफ्ट (सुबह आठ से शाम चार बजे) तक के लिए खोले गए हैं। इन ट्रेनों में सफर करने के लिए रेलवे ने पैसेंजर गाइडलाइंस भी जारी किया है। यात्रियों को कम से कम 90 मिनट पहले स्टेशन पहुंचना होगा। अग्रिम आरक्षण की अवधि अधिकतम 30 दिनों की होगी। मौजूदा नियमों के अनुसार आरएसी और प्रतीक्षा सूची तैयार की जाएगी। आरएसी व प्रतीक्षा सूची के टिकट धारकों को ट्रेन में चढऩे की अनुमति नहीं होगी। एक सीट पर सिर्फ एक आदमी को बैठने की अनुमति होगी। वहीं, ट्रेन में पीपीई किट पहनकर रनिंग स्टॉफ मौजूद रहेंगे। 

यह है रेल प्रशासन का दिशा निर्देश

- रेलवे स्टेशनों पर यात्रियों का प्रवेश और निकास अलग-अलग द्वार से होंगे।

-प्रवेश व निकासी द्वार पर एक निश्चित दूरी पर गोले बने हैं जिसमें कतार से खड़ा रहना है।

-स्टेशनों व ट्रेनों में मानक शारीरिक दूरी और रक्षा, सुरक्षा और स्वच्छता प्रोटोकाल का पालन करना है।

-केवल कंफर्म टिकट वाले यात्रियों को ही रेलवे स्टेशन में प्रवेश की अनुमति होगी।

-सभी यात्रियों की अनिवार्य रूप से जांच की जाएगी।

-कोरोना के लक्षण वाले सफर नहीं कर सकेंगे।

-लक्षण वाले यात्री के टिकट कैंसिलेशन पर पूरा रिफंड मिलेगा।

-फेस कवर व मास्क पहनना होगा।

-ट्रेनों के अंदर भी शारीरिक दूरी का पालन करना होगा।

-ट्रेन के भीतर कोई लिनेन, कंबल और पर्दे उपलब्ध नहीं कराए जाएंगे।

-नियमित ट्रेनों में स्वीकृत सभी कोटे की अनुमति दी जाएगी।

ट्रेन के प्रस्थान करने के कम से कम चार घंटे पहले पहला चार्ट तैयार किया जाएगा।

-ट्रेन में कोई भी अनारक्षित कोच नहीं होगा।

-कोई भी अनारक्षित टिकट जारी नहीं किया जाएगा।

-दिव्यांगजन की केवल चार श्रेणियों व रोगियों की 11 श्रेणियों में रियायत है।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस