वाराणसी, जेएनएन। बनारस शहर की कई खबरों ने गुरुवार को सुर्खियां बटोरीं। जिनमें नगर निेगम उपकेंद्र के पैनल में लगी आग, संविदाकर्मी झुलसा, पूर्वांचल में गंगा में एक बार फ‍िर बढ़ने लगा जलस्‍तर, मौसम का रुख एक बार फि‍र से तल्‍खी की ओर, त्‍योहारी सीजन में विषम हालात के बीच आर्थिक उड़ान भरने को तैयार आटो कारोबार, संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय अब संबद्ध महाविद्यालय में शिक्षकों की नियुक्ति नहीं कर सकेगा आदि खबरें सर्वाधिक चर्चा में रहीं। जानिए शाम पांच बजे तक की शहर-ए-बनारस की पांच प्रमुख और चर्चित खबरें।

नगर निेगम उपकेंद्र के पैनल में लगी आग, संविदाकर्मी झुलसा

33 केवी उपकेंद्र नगर निगम के 11 केवी के एक पैनल में गुरुवार की सुबह आग लग गई। आग की चपेट में आने से एक विभागीय संविदाकर्मी भी झुलस गया। घायल अवस्‍था में संविदाकर्मी को आनन-फानन एक निजी अस्‍पताल में भर्ती कराया गया।

पूर्वांचल में गंगा में एक बार फ‍िर बढ़ने लगा जलस्‍तर, तटवर्ती इलाकों में बढ़ने लगी चिंता

पूर्वांचल में गंगा नदी का रुख एक बार फि‍र से बढ़ाव की ओर है। हालांकि सिर्फ बलिया जिले में ही गंगा चेतावनी बिंदु के पार होने से चिंता बनी हुई है। कई दिनों के घटाव के बाद मंगलवार की शाम से वाराणसी में गंगा के जलस्‍तर में बढ़ाव दर्ज किया जा रहा है। फाफामऊ और प्रयागराज में जहां गंगा बढ़ाव पर हैं वहीं दूसरी ओर शहजादपुर में गंगा अब घटाव पर हैं। ऐसे में अगले 24 से 48 घंटे बाद गंगा में दोबारा घटाव का रुख हो सकता है। हालांकि चंबल नदी का पानी छोड़े जाने से भी दोबारा गंगा में उफान की संभावना जताई जा रही है।

पूर्वांचल में मौसम का रुख एक बार फि‍र से तल्‍खी की ओर, सुबह से लोग पसीना पसीना

कई दिनों से लगातार रह रहकर हो रही बरसात के बाद अब दो दिनों से सूरज की तल्‍खी से लोग दो चार हो रहे हैं। गुरुवार की सुबह भी आसमान साफ रहा और बादलों की मामूली आवाजाही रही। उमस की वजह से सुबह से ही लोग पसीना पसीना होते रहे। मौसम विज्ञानियों के अनुसार पूर्वांचल में मानसूनी परिस्थितियां सक्रिय हैं हालांकि पर्याप्‍त नमी की कमी से बारिश नहीं हो पा रही है।

त्‍योहारी सीजन में विषम हालात के बीच आर्थिक उड़ान भरने को तैयार आटो कारोबार

दुश्वारियों का रोड़ा अटकाने के बावजूद आटो मोबाइल बाजार त्योहारी सीजन में उड़ान भरने को तैयार है। मंदी की मार से बेहाली, 29.45 फीसद कारोबार की गिरावट के बावजूद वितरक दम बांधे हैं। उन्हें सरकारी रियायतों पर भरोसा है, कह रहे कि वाहन खरीदने का इससे बेहतर मौका आगे नहीं मिलेगा। इसे ग्राहक बखूबी समझ रहे हैं, उन्हें खरीदारी को दिवाली, दशहरा, नवरात्र में शुभ मुहूर्त का इंतजार है।

संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय अब संबद्ध महाविद्यालय में शिक्षकों की नियुक्ति नहीं कर सकेगा

संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय प्रशासन अब संबद्ध महाविद्यालय में शिक्षकों की नियुक्ति नहीं कर सकेगा। चयन प्रक्रिया के लिए अब शासन स्तर पर आयोग बनाकर रिक्तियां भरी जाएंगी। संस्कृत विश्वविद्यालय की नियमावली के अनुसार संबद्ध कालेजों में प्रिंसीपल सहित शिक्षकों के रिक्त पदों पर नियुक्ति का अधिकार विवि प्रशासन के पास सुरक्षित है। ऐसे में शासन ने विवि प्रशासन को पत्र लिखकर अपनी नियमावली में संशोधन कर एक सप्ताह के भीतर सूचित करने का निर्देश दिया है।

Posted By: Saurabh Chakravarty

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप