वाराणसी, जेएनएन। बनारस शहर की कई खबरों ने मंगलवारको सुर्खियां बटोरीं। जिनमें बीएचयू परिसर में चाय विक्रेता की हत्‍या के बाद सनसनी, कमजोर घर की छत गिरने से तीन लोग हो गए घायल, गंगा में कम होने लगा जलस्‍तर, अंतरराष्‍ट्रीय लेखकों का 'लांग नाइट लिटरेचर्स' में जमावड़ा, महाश्मशान के सामने स्थापित होगी कोयंबटूर से भी ऊंची आदियोगी की प्रतिमा, आदि खबरें सर्वाधिक चर्चा में रहीं। जानिए शाम पांच बजे तक की शहर-ए-बनारस की पांच प्रमुख और चर्चित खबरें।

बीएचयू परिसर में चाय विक्रेता की हत्‍या के बाद सनसनी, मौके पर पहुंची पुलिस ने शुरू की जांच पड़ताल

बीएचयू का परिसर एक बार फ‍िर वारदात से सिहर उठा है। बीएचयू परिसर में चाय विक्रेता राम जतन साहनी उर्फ रामू की मंगलवार की रात को ईंट से कूचकर सोते समय हत्या किए जाने की जानकारी होने के बाद गहमागहमी बढ़ गई है। देर रात किसी समय ईंट से कूचकर हत्‍या करने की जानकारी के बाद लंका पुलिस भी मौके पर पहुंची और वारदात की जांच शुरू कर दी। स्‍थानीय लोगों के अनुसार रामू की चाय और पकौड़ी की परिसर में ही दुकान थी। लॉ, आयुर्वेद और फाइन आर्ट्स के बच्चों का ठिकाना भी हुआ करती थी। कभी किसी से भी पैसे को लेकर भी झिकझिक नहीं थी लिहाजा हत्‍या का कारण समझ से परे है।

विवाद की वजह से नहीं हो रहा था घर का निर्माण, कमजोर घर की छत गिरने से तीन लोग हो गए घायल

आदमपुर थाना क्षेत्र स्थित अंबिया मंडी में रफीक रहमान का लगभग 100 वर्ष पुराना जर्जर मकान का एक हिस्‍सा मंगलवार की सुबह ढह जाने से तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। पुराने मोहल्‍ले में बना यह म‍कान काफी पुराना होने की वजह से जगह- जगह से पहले ही जर्जर हो चुका है। बीते दिनों से बारिश की वजह से लगातार नमी और सीलन ने मकान को और भी कमजोर कर दिया था।

Flood in Ganga : गंगा में कम होने लगा जलस्‍तर, बढ़ने लगीं तटवर्ती लोगों पर रहने वालों की दुश्‍वारियां

पूर्वांचल के अमूमन सभी जिलों में गंगा की बाढ़ चौबीस घंटों से भले ही उतरने लगी हो मगर तटवर्ती इलाकों में दुश्‍वारियां जस की तस हैं। गंगा के पलट प्रवाह की वजह से वरुणा, असि के साथ ही गोमती नदी में भी उफान आने से तटवर्ती इलाकाें में बाढ़ की स्थिति है। तटवर्ती इलाकों में खेत खलिहान पूरी तरह डूब चुके हैं। ढाब क्षेत्रों में ही सबसे अधिक सब्जियों की खेती होती थी लिहाजा सब्जियों की फसल चौपट होने से किसानों के सामने कमाई करने का बड़ा मौका खत्‍म हो गया है। वहीं धान की फसल कुछ हद तक बची हुई है। कई निचले इलाकों व कालोनियों में अब भी आने-जाने का साधन नाव होने की वजह से राहत सामग्री नाव से भेजी जा रही है। 

फ्रांस, हंगरी, आयरलैंड और स्विटजरलैंड के अंतरराष्‍ट्रीय लेखकों का 'लांग नाइट लिटरेचर्स' में जमावड़ा

फ्रांस, हंगरी, आयरलैंड और स्विटजरलैंड के अंतरराष्‍ट्रीय लेखकों का काशी में देर शाम 'लांग नाइट लिटरेचर्स' नाम से यह साहित्यिक आयोजन हो रहा है। चारों देशों के लेखकों का संघ वाराणसी में देर रात तक अंतरराष्‍ट्रीय साहित्‍य पर मंथन करेगा। इस आयोजन में शामिल होने के लिए देश विदेश से लेखकों का काशी में एक दिन पूर्व से ही जमावड़ा हो चुका है। इस आयोजन में देश विदेश की कई संस्‍थाओं का सामूहिक प्रयास है।

महाश्मशान के सामने स्थापित होगी कोयंबटूर से भी ऊंची आदियोगी की प्रतिमा, सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने देखी साइट

बाबा काशी विश्‍वनाथ दरबार से लेकर गंगा तट तक बनाए जा रहे विश्वनाथ धाम कारिडोर के सामने उस पार रेती में आदियोगी भगवान शिव की विशाल प्रतिमा लगाई जाएगी। यह महाश्मशान मणिकर्णिका के ठीक सामने स्‍थापित होगी। कोयम्बटूर में आदियोगी की लगभग 112 फीट की प्रतिमा स्थापित कर चुका ईशा फाउंडेशन इसे वाराणसी में भी स्‍थापित करेगा। इसके लिए जमीन अादि की व्यवस्था श्रीकाशी विश्वनाथ विशिष्ट क्षेत्र विकास परिषद करेगा। फाउंडेशन के संस्थापक आध्यात्मिक गुरु जग्गी वासुदेव ने सोमवार को इसके लिए घाट की ओर से ही साइट भी देख लिया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021