वाराणसी, इंटरनेट डेस्‍क। बनारस शहर की कई खबरों ने मंगलवार को चर्चा बटोरीं जिनमें मजदूर की गेट पर गिरकर मौत, आइआइटियंस की चमकेगी किस्मत, वैक्‍सीनेशन टीम को लौटाया, स्वास्थ्य विभाग की कार्यशाला, वाराणसी स्वच्छता सर्वेक्षण आदि प्रमुख खबरें रहीं। जानिए शाम छह बजे तक की शहर-ए-बनारस की पांच प्रमुख और चर्चित खबरें।

वाराणसी के सिगरा में छत से सीधे गेट के लोहे की रॉड पर गिरा मजदूर, मौके पर ही दर्दनाक मौत

सिगरा थानांतर्गत महमूरगंज स्थित पंचशील नगर कॉलोनी में देर रात छत से गिरे मजदूर की दर्दनाक मौत हो गई। कारखाने के दरवाजे पर निकला नुकीला रॉड बुजुर्ग मजदूर की पेट में घुस गया था। बहराल, घटना की सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। घटना की संवेदनशीलता को देखते हुए मौके पर डॉग स्क्वायड और फोरेंसिक टीम भी बुलाई गई। मिली जानकारी के अनुसार पंचशील नगर कॉलोनी निवासी अंडर गारमेंट व्यवसाई शिवकुमार अग्रवाल का मकान के पिछले हिस्से में कारखाना भी चलता है। जहां चंदौली के बलुआ क्षेत्र स्थित समोधपुर निवासी गंगा सागर विश्वकर्मा (60) पुत्र स्व. हरदेव विश्वकर्मा हेल्पर के तौर पर काम करते थे। बीते सोमवार की शाम सात बजे कारखाने में काम खत्म होने के बाद सभी मजदूर घर चले गए। जबकि गंगा सागर कारखाने में ही रहते थे। उनका परिवार पड़ोस के रानीपुर मोहल्ले में किराए पर रहता था। अगले दिन सुबह 8.30 बजे पारस नामक मजदूर पहुंचा तो कारखाने के मुख्य द्वार पर गंगा सागर का शव देख उसके होश उड़ गए। इसकी सूचना बड़े पुत्र संजय विश्वकर्मा को दी।

आधी रात के बाद बदल जाएगी कई बीएचयू आइआइटियंस की किस्मत, 250 कंपनियां लेंगी आनलाइन साक्षात्कार

आज रात के 12 बजे के बाद घड़ी की सुइयां जब एक साथ होंगी और दीवार पर टंगे कैलेंडर में तारीख बदल जाएगी तो इसी के साथ ही बीएचयू आइआइटी में कई मेधावियों की किस्मत भी बदलने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। देश-विदेश की लगभग 250 कंपनियां भावी इंजीनियरों का कैंपस इंटरव्यू लेंगी और उनकी मेधा, प्रतिभा को देखते हुए उन्हें मुंहमांगे पैकेज पर अपनी कंपनी में काम करने का आफर देंगी। इसके लिए मेधावी रात भर जागेंगे और अपनी बारी का इंतजार करेंगे। आधी रात से लेकर सुबह तक बीटेक व एमटेक अंतिम वर्ष के छात्र अपना साक्षात्कार देंगे। बुधवार की सुबह उनके लिए खुशियों की सौगात मुंहमांगे पैकेज के साथ नई नौकरी के रूप में लेकर आएगी। साक्षात्कार की यह प्रक्रिया परिसर स्थित राजपूताना छात्रावास में चलेगी। वहां इसके लिए सभी प्रकार की तैयारियां की जा चुकी हैं।

वाराणसी के काशी विद्यापीठ ब्‍लाक में कोविड का टीका लगाने गई टीम को लोगों ने लौटाया

वैक्सीनेशन के लिए स्वास्थ्य टीम को कोरौता में सफलता मिली है तो कोटवां में विफलता मिली है। लोगों ने टीम को वैक्‍सीन नहीं लगवाने की बात कहते हुए वापस कर दिया। इस बात की जानकारी अधिकारियों को मिली तो अब वह लोगों को समझाने के लिए आगे आएंगे। कोरोना से बचाव के लिए टीका लगवाने से बारबार इनकार करने वाले स्थानीय विकास खंड कोरौता गांव के धरकार बस्ती के 20 लोगों का टीकाकरण करने में मंगलवार को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र से गयी रैपिड रिस्पांस टीम (आरआरटी) को ग्राम पंचायत सदस्य विजय मौर्य के सहयोग से सफलता मिल गयी। टीम का नेतृत्व करने वाले स्वास्थ्य शिक्षा अधिकारी विनोद सिंह ने बताया कि क्षेत्रीय एएनएम व आशा कार्यकर्ता के कई प्रयास के बावजूद भी उक्त लोग टीका लगवाने से इनकार कर रहे थे काफी समझाने के बाद वह टीकाकरण के लिए राजी हुए 20 लोगों को कोविशील्ड का पहला डोज लगाया गया। टीम में चीफ फार्मसिस्ट आइ ए सिद्दिकी, रवि कश्यप आदि थे।

वाराणसी में परिवार नियोजन के प्रति जागरूकता, स्वास्थ्य विभाग ने आयोजित की कार्यशाला

परिवार नियोजन कार्यक्रम के अंतर्गत स्थायी व अस्थायी साधनों को लेकर समुदाय में पहुंच के साथ ही साथ जागरूकता भी बढ़ी है। इसका सुखद परिणाम जनपद में देखने को मिल रहा है। हाल ही में जारी हुये नेशनल फैमिली हैल्थ सर्वे (2020-21) एनएफएचएस-5 के अनुसार परिवार नियोजन कार्यक्रम के तहत किसी भी प्रकार के आधुनिक (अस्थायी) विधियों में वाराणसी जनपद की उपलब्धि 60.9 फीसदी है। जबकि एनएफ़एचएस-4 (2015-16) में आधुनिक विधियों में 42.6 प्रतिशत था। वहीं एनएफ़एचएस-5 के अनुसार ही परिवार नियोजन की किसी भी विधि (स्थायी व अस्थायी) में जनपद की उपलब्धि 72.5 फीसदी है जबकि एनएफ़एचएस-4 में 58.5 प्रतिशत था। यह चर्चा मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग के तत्वावधान में ‘द चैलेंज इनिशिएटिव हेल्थ सिटीज इंडिया (टीसीआईसीएच) - पॉप्युलेशन सर्विस इंडिया (पीएसआई)’ के सहयोग से आयोजित कार्यशाला में की गयी। यह कार्यशाला परिवार नियोजन कार्यक्रम की पांच वर्ष उपलब्धि और पीएसआइ की यात्रा पर केन्द्रित रही।

वाराणसी स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में पिछड़ने के बाद नगर निगम प्रशासन ने बनाई रूपरेखा

स्वच्छता को लेकर कालोनी के रहनवार अब सजग हो जाइए। शहर भर की कालोनियों के साथ उनकी प्रतिस्पर्धा होने जा रही है। यह आयोजन नगर निगम प्रशासन की ओर से कराई जाएगी। टाप थ्री में आई कालोनियों में नगर निगम की ओर से स्मार्ट सुविधाओं का विकास किया जाएगा। साथ ही सबसे स्वच्छ कालोनी का प्रमाण पत्र भी मिलेगा। इस तरह की प्रतियोगिता में वे प्रतिष्ठान भी शामिल होंगे जो बल्क में वेस्ट जेनरेट करते हैं। स्वच्छता सर्वेक्षण 2021 में तीन पायदान पिछडऩे के बाद देश भर की रैंकिंग में 30 वां स्थान पाने वाला वाराणसी शहर आगामी सर्वेक्षण के लिए तैयारी तेज कर दी है। इस क्रम में नगर निगम प्रशासन ने नई पहल की है। इससे जहां लोगों में स्वच्छता के प्रति लोगों के अंदर जागरूकता आएगी तो वहीं, क्षेत्रवार स्वच्छता का मानक पूरा किया जा सकेगा। नगर आयुक्त प्रणय सिंह ने इस योजना को लेकर बीते दिनों कैंप कार्यालय में नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. एनपी सिंह समेत अन्य अफसरों के साथ मंथन कर चुके हैं। प्रतिस्पर्धा की रूपरेखा तैयार की जा रही है।

Edited By: Abhishek Sharma