वाराणसी, इंटरनेट डेस्‍क। बनारस शहर की कई खबरों ने सोमवार को चर्चा बटोरीं जिनमें बाबा दरबार में नई गाइडलाइन, बाबा दरबार में पांच लाख श्रद्धालु, दीक्षा समारोह में राज्‍यपाल, किशोरों ने लिया वैक्‍सीन, सौ फीसद तक पहुंची आर्द्रता आदि प्रमुख खबरें रहीं। जानिए शाम पांच बजे तक की शहर-ए-बनारस की पांच प्रमुख और चर्चित खबरें।

वीआइपी हैं तो भी बाबा दरबार में दर्शन के लिए लगेंगे कतार में, दर्शन के लिए नई गाइड लाइन जारी

अगर आप वीआइपी हैं तो भी बाबा दरबार में दर्शन के लिए कतार में लगना होगा। बाबा दरबार में दर्शन के लिए नई गाइड लाइन जारी होने के बाद अब विश्‍वनाथ मंदिर में दर्शन के लिए सभी एक समान नई गाइ‍डलाइन में कर दिए गए हैं। बाबा दरबार में दर्शन पूजन के तौर तरीके बदलने का क्रम जारी है। नए साल पर अचानक लाखों की भीड़ उमड़ पड़ने के बाद अपर पुलिस आयुक्‍त सुभाष चंद्र दुबे तक को बाबा दरबार परिक्षेत्र में सड़क पर उतर कर भ्रमण कर लोगों को समझाने की नौबत आ गई थी। दूसरी ओर नए साल में कोरोना संक्रमण को देखते हुए भी बाबा दरबार में आस्‍थावानों की कतार लाखों में पहुंचने की वजह से बाबा दरबार के प्रशासन को अधिक दबाव झेलना पड़ा। ऐसे में बाबा दरबार प्रशासन की ओर से नई गाइडलाइन जारी करनी पड़ी है।

संस्कृत विश्वविद्यालय के 39वें दीक्षा समारोह में बोलीं राज्‍यपाल - 'संस्कृत भाषा नहीं संस्कृति का मूल आधार'

राज्यपाल/कुलाधिपति आनंदीबेन पटेल ने कहा कि संस्कृत भाषा नहीं संस्कृति का मूल आधार हैं। यह सभी भाषाओं की कोशिका है। गतदिनों पीएम नरेन्द्र मोदी ने भी मन की बात में महोपाध्याय गंगा नाथ झा जैसे विद्वानों ने देव भाषा संस्कृत के प्रसार प्रसार किया और इसकी सेवा की। हमें उन विभूतियों के आदर्शों का निर्वाह करने का संकल्प लेना होगा। वह सोमवार को संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय के 39वें दीक्षा समारोह की अध्यक्षता कर रहीं थीं। उन्होंने कहा कि महोपाध्याय गंगा नाथ झा, गोपीनाथ कविराज जैसे विद्वानों ने देव भाषा संस्कृत के प्रसार प्रसार किया और इसकी सेवा की। हमे उन विभूतियों के आदर्शो का निर्वाह करने का संकल्प लेना होगा। मुस्लिम और विदेशी छात्र भी इसी विश्विध्यालय से शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं, जो पूरे विश्व में संस्कृत भाषा के महत्व को दर्शाता है। प्राचीनतम विश्वविद्यालय के उत्थान के लिए पूर्व मुख्यमंत्री स्व. संपूर्णानंद के योगदान अविस्मरणीय है।

नए साल पर 48 घंटे में पांच लाख श्रद्धालुओं ने देखी बाबा श्रीकाशी विश्वनाथ धाम की निराली छटा

काशी में नव वर्ष का उमंग और उत्साह दूसरे दिन छाया रहा। श्रीकाशी विश्वनाथ धाम के नव्य-भव्य स्वरूप की छटा निहारने के लिए श्रद्धालुओं का रेला गोदौलिया से ज्ञानवापी क्रासिंग तक समाया रहा। पहली बार ऐसा हुआ जब 48 घंटे के भीतर लगभग पांच लाख श्रद्धालुओं ने धाम में दर्शन पूजन किया। यह आंकड़ा सावन सोमवार व महाशिवरात्रि से भी दो गुना रहा। नए वर्ष के पहले दिन भोर से उमड़ी आस्थावानों की भीड़ दूसरे दिन भी जमी रहा। रात में शयन आरती के बाद क्रम टूटा तो रविवार को भी मंगला आरती के बाद फिर से कतार लगी जो मंदिर के पट बंद होने तक बरकरार रही। कतारबद्ध श्रद्धालुओं का जोश हर-हर, बम-बम व हर-हर महादेव के उद्घोष के रूप में अपनी ऊंचाई का अहसास कराता रहा। घंटों इंतजार के बाद बाबा के आंगन से होते श्रद्धालु गर्भगृह पहुंचे और मंगलमय नव वर्ष की कामना से बाबा को शीश नवाया।

वाराणसी में किशोर आदित्‍य सिंह ने लिया वैक्‍सीन का पहला डोज, केंद्रों पर वैक्‍सीनेशन का क्रम शुरू

देश भर में सोमवार से 15 से 18 वर्ष तक के किशोराें के लिए वैक्‍सीन लगना शुरू हो गया है। इसी कड़ी में वाराणसी जिले में सबसे पहले आदित्‍य सिंह को सुबह सात बजे सिगरा स्‍टेडियम में कोवैक्‍सीन का पहला टीका दिया गया है। चिकित्‍साधिकारियों के अनुसार किशोरों के वैक्‍सीनेशन पर अब जोर दिया जा रहा है। उनकी सेहत पर भी विशेष ध्‍यान रखा जा रहा है। वहीं चोलापुर में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रांजल चौरसिया, वैभव, जाह्नवी, श्रृष्टि समेत अबतक कुल 14 लोगों को वैक्सीन दोपहर 12 बजे तक लग चुका था। रमना प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पर 15+ से 18+ आयु वर्ग के किशोरों को टीका लगाने का शुभारम्भ स्वयं केन्द्र के प्रभारी चिकित्साधिकारी डॉक्टर शिवशक्ति प्रसाद द्विवेदी ने किया। बताया कि किशोरों के लिए 100 केन्द्र चिन्हित किया गया है। स्वास्थ्य विभाग के दिशा - निर्देश द्वारा 10 हजार किशोरों के लिए स्लॉट खोला गया है।

वाराणसी में तापमान में गिरावट के साथ सौ फीसद तक पहुंची आर्द्रता, कोहरे और गलन से निजात नहीं

पूर्वांचल में तापमान लगातार दोबारा कम होने के बीच कोहरा और सघन हो गया है। रविवार की आधी रात के बाद कोहरा जो घना होना शुरू हुआ वह दिन चढ़ने के साथ ही और भी नजर आने लगा। मौसम विभाग ने आधी रात को कोहरा और घना होने का अलर्ट जारी किया तो लोगों को कोहरे की भयावहता का अंदाजा लगा। मौसम विभाग ने नए साल पर कोहरा और गलन का हालांकि संकेत पूर्व में ही दे दिया था। अब कोहरा घना होने के साथ ही आर्द्रता का चढ़ा हुआ स्‍तर लोगों को सेहत संबंधी दुश्‍वारियां भी खूब देगा। बीते चौबीस घंटों में अधिकतम तापमान 17.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य से पांच डिग्री कम रहा। न्‍यूनतम तापमान 7.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्‍य से एक डिग्री कम रहा। जबकि आर्द्रता अधिकतम सौ फीसद और न्‍यूनतम 86 फीसद दर्ज की गई।

Edited By: Abhishek Sharma