जौनपुर, जेएनएन। मड़ि‍याहूं कोतवाली के बंदीगृह से गुरुवार की तड़के लूट के तीन आरोपित पुलिसकर्मियों को चकमा देकर ताला तोड़कर फरार हो गए। इस मामले से पूरा महकमा सकते में आ गया। एसपी ने लापरवाही के आरोप में कोतवाल, एसआइ व एक सिपाही को निलंबित कर दिया है। साथ ही संतरी ड्यूटी पर तैनात होमगार्ड के दो जवानों के खिलाफ कार्रवाई के लिए जिला होमगाड्र्स कमांडेंट को पत्र लिखा है। लुटेरों की गिरफ्तारी के लिए गठित पुलिस टीमें संभावित स्थानों पर दबिश दे रही हैं।
गत चार अगस्त की रात लाइन बाजार थाना क्षेत्र के बैंकर्स कॉलोनी निवासी थोक दवा कारोबारी भानु प्रकाश ङ्क्षसह बाइक से तकादा कर शहर लौट रहे थे। पाली बाजार के पास बाइक सवार तीन बदमाशों ने उनकी पिटाई कर 22 हजार रुपये व मोबाइल फोन लूट लिया था। भागते समय हड़बड़ी में लुटेरों में से एक का मोबाइल फोन घटनास्थल के पास गिर गया था। उसी के सहारे क्राइम ब्रांच टीम ने प्रकाश में आए तीन आरोपितों रुस्तम निवासी शहाबुद्दीनपुर थाना गौराबादशाहपुर, सलीम शेख निवासी ग्राम सिरौली थाना रामपुर व संजय पटेल निवासी पूरा रघुनाथपुर थाना फूलपुर जिला वाराणसी को पकड़कर बुधवार की रात कोतवाली पुलिस के हवाले किया था।

तीनों को पूछताछ के बाद चालान किए जाने से पूर्व कोतवाली के लॉकअप में बंद कर दरवाजे में ताला लगा दिया गया था। गुरुवार को तड़के तीन बजे तब पुलिस कर्मियों के हाथ-पांव फूल गए जब लॉकअप का ताला टूटा व तीनों आरोपित फरार मिले। खबर फैलते ही पूरे महकमे को सांप सूंघ गया। पुलिस तलाश में जुट गई। काफी हाथ-पैर मारने के बाद भी कोई सुराग नहीं मिला तो उच्चाधिकारियों को जानकारी दी।
एएसपी (ग्रामीण) संजय राय गुरुवार को दिन भर कोतवाली में बैठकर आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए दिशा-निर्देश देने के साथ लापरवाही के लिए पुलिसकर्मियों की क्लास लगाते रहे। प्रकरण को गंभीरता से लेते हुए एसपी विपिन कुमार मिश्र ने कोतवाल सुरेंद्र ङ्क्षसह, एसआइ आशुतोष गुप्ता व कार्यलेख पर मौजूद सिपाही उमाशंकर पाल को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया। एसपी ने संतरी ड्यूटी में तैनात होमगाड्र्स के जवानों त्रिपुरारी यादव व रामेश्वर यादव के विरुद्ध कार्रवाई के लिए जिला होमगाड्र्स कमांडेंट को पत्र लिखा है।

Posted By: Saurabh Chakravarty