वाराणसी, जेएनएन। जिला पंचायत में ठेकेदार से कमीशन की बात करने के आरोपित बाबू पर गाज गिरना तय है। प्राथमिक जांच में वीडियो फुटेज की सच्चाई पर मुहर लग गई है। डीएम ने चुनाव आयोग को पत्र भेजकर कार्रवाई की अनुमति मांगी है। रिश्वत मांगने की वीडियो फुटेज एक साल पूर्व वायरल हुई थी। वीडियो में तत्कालीन अपर मुख्य अधिकारी के सामने ही लिपिक और ठेकेदार के बीच कमीशन को लेकर बातचीत हुई थी। करीब छह मिनट का वीडियो सामने आने के बाद तत्कालीन 

जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र ने जांच के आदेश दिए हैं। शहर में सड़क के 4.41 लाख रुपये के टेंडर का काम एक ठेकेदार ने कराया था। एक साल पहले उसने अपर मुख्य अधिकारी से लेकर अन्य अधिकारियों तक भुगतान के लिए दौड़ लगाई थी। मगर, उस वक्त उसका भुगतान नहीं किया गया। इसी मामले में कमीशन के बातचीत की वायरल हुई वीडियो फुटेज सुर्खियों में छाई रही। जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने बताया कि जांच में लिपिक पर आरोप प्रथम दृष्टया साबित हो रहा है। आरोपित के खिलाफ कार्रवाई को चुनाव आयोग से अनुमति मांगी गई है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Abhishek Sharma

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप