वाराणसी, जेएनएन। यूपी पुलिस अक्सर अपनी विवादित छवि के कारण सुर्खियों में रहती हैं, मगर इसी बीच एक ऐसी खबर आई है जो हमें अपने पुलिस पर गर्व के भाव से भर देती है। ताजा मामला कोतवाली थाना क्षेत्र के कबीरचौरा चौकी की है, जहां पर चौकी प्रभारी धर्मराज सिंह ने ईमानदारी की मिसाल पेश की है। चौकी प्रभारी ने ईमानदारी दिखाते हुए पिता के इलाज के लिए आई महिला को एक लाख 98 हजार रुपयों से भरा सूटकेस वापस लौटाया।

मिली जानकारी के अनुसार बिहार के औरंगाबाद की एक महिला अपने भाई दिवाकर पांडेय के साथ अपने पिता का इलाज कराने कबीरचौरा आयी थी। जहां डॉक्टरों ने पिता के गम्भीर हालत को देखते हुए उन्हें एपेक्स हॉस्पिटल रेफर कर दिया। आनन फानन उक्त महिला का सूटकेस कबीरचौरा हॉस्पिटल में ही छूट गया। महिला जब वापस आकर रुपयों से भरा सूटकेस ढूंढी लेकिन काफी खोजबीन के बाद भी सूटकेस नहीं मिला।

रोती बिलखती महिला कबीरचौरा चौकी प्रभारी धर्मराज सिंह के पास पहुंची। चौकी प्रभारी ने तत्‍परता दिखाते हुए मामले की जांच पड़ताल शुरू कर दिया। जांच के दौरान चौकी प्रभारी को अस्पताल के ही एक कर्मचारी पर शक था। चौकी प्रभारी ने अस्पताल के कर्मचारी से कड़ाई से पूछताछ करनी शुरू की तो उसने सूटकेस मिलने की बात स्वीकारी। 

चौकी प्रभारी ने सूटकेस बरामद कर इलाज के लिये आयी महिला को सौंप दिया। रुपयों से भरा सूटकेस पाते ही महिला के आंखों से आंसू छलक पड़े। महिला ने तहे दिल से चौकी प्रभारी धर्मराज सिंह का आभार व्यक्त किया।वहीं चौकी प्रभारी धर्मराज सिंह के ईमानदारी की चर्चा बनारस के कोने-कोने में हो रही है। कोरोना काल में जब लोगों के पास नौकरी और पैसा नहीं है, ऐसे में चौकी प्रभारी की ईमानदारी भरी पहल ने मिसाल कायम किया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस