वाराणसी, जेएनएन। गुरुधाम से खोजवां मार्ग पर एक अवैध चबूतरा हटाने के दौरान माहौल तनावपूर्ण हो गया। लोगों ने अतिक्रमण हटाने वाले दस्ते पर पथराव कर दिया। हालांकि किसी को चोट नहीं आई। पुलिस ने लाठी भांजकर स्थिति को संभाला। नगर निगम प्रशासन ने एक व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। संकट मोचन मंदिर के महंत के अर्ध निर्मित चहारदीवारी को फिर से गिरा दिया गया।

खोजवां में पांचवीं बार अतिक्रमण रोधी अभियान चलने से क्षेत्र में काफी चर्चा रही। दोपहर बाद नगर निगम का अतिक्रमण रोधी दस्ता खोजवा बाजार पहुंचा। शुरुआत शकुलधारा पोखरा के पूर्व में आशिक रूप से तोड़े गए निर्माणों को गिरा कर किया गया। इसके बाद अतिक्रमण दस्ता प्रभारी विनय राय व एसीएम प्रथम रामसजीवन मौर्य और अतिक्रमण निरीक्षक संजय श्रीवास्तव के नेतृत्व में खोजवा पुस्तकालय की गली में गया जो आगे जवाहर नगर एक्सटेंशन व कश्मीरी गंज राम मंदिर को जोड़ता है। गली में दोनों किनारे के अवैध निर्माण गिराया गया। 1922 में स्थापित श्री खोजवां आदर्श पुस्तकालय की दीवार भी ध्वस्त कर दी गई। दस्ता गाधी चौक की तरफ बढ़ा जहा चेतावनी के बाद भी अतिक्रमण नहीं हटाने वालों के निर्माण तोड़े गए। इसी चौराहे पर स्थित एक मिष्ठान भंडार के निचली मंजिल के निर्माण को ध्वस्त किया गया जो सड़क पर कब्जा कर बनाया गया था। इससे खोजवा कबीरनगर मार्ग पर भयंकर जाम लगता था।

महंत की गिराई दीवार

अतिक्रमण दस्ता जवाहर नगर एक्सटेंशन पहुंचा जहां कश्मीरी गंज राम मंदिर के पास स्थित संकट मोचन मंदिर के महंत प्रो. विश्वंभर नाथ मिश्र के अर्ध निर्मित मकान की दक्षिण दिशा की दीवार तोड़ दी गई। इसे पूर्व में भी ध्वस्त किया था। उस दौरान महंत ने नगर निगम पर एफआइआर दर्ज कराया था और पुन: पक्की दीवार खड़ी कर दी गई। उक्त दीवार के दक्षिण की तरफ गली में अतिक्रमण कर बनाए गए चबूतरे को जब दस्ता ध्वस्त कर रहा था तब मकान मालिक के बेटे अजय कुमार सिंह ने विरोध किया। आरोप है कि उसने अतिक्रमण दस्ते पर ईंट भी चलाई। एसीएम प्रथम के आदेश पर उसे तत्काल गिरफ्तार कर लिया गया। प्रभारी विनय राय की तहरीर पर उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस