मऊ (जेएनएन) । स्थानीय मधुबन थाना क्षेत्र के लखनौर स्थित अति प्राचीन राम-जानकी मंदिर से मंगलवार की रात में चोर ताला तोड़कर राम, जानकी व लक्ष्मण की लगभग 45 किग्रा वजन की बेशकीमती मूर्ति चोरी कर ले गए। मूर्ति अष्टधातु की बताई जा रही है, जिसकी कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में करोड़ों में आंकी जा रही है। घटना की जानकारी लगते ही स्थानीय पुलिस, स्वाट टीम व फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट पहुंच गई। घटनास्थल का निरीक्षण कर घटना के खुलासे के प्रयास में जुट गए हैं।

 क्षेत्र के लखनौर में राजेंद्र पांडेय पुत्र बैजनाथ पांडेय के पूर्वज द्वारा राम-जानकी मंदिर का निर्माण कराए थे। इसमें राम-जानकी व लक्ष्मण की लगभग 15-15 किग्रा वजन की अष्टधातु की मूर्तियां स्थापित थीं। इसमें पूजा-पाठ राजेंद्र पांडेय के परिवार द्वारा किया जाता था। मंगलवार की रात में जब पूरा परिवार सो गया तो आधी रात के करीब चोर मंदिर का ताला तोड़कर तीनों मूर्तियों के साथ टूटे ताले को भी लेकर चंपत हो गए। सुबह जब परिवार के सदस्यों को मंदिर का ताला टूटा हुआ मिला तो अाशंका होने पर मंदिर के अंदर गए तो मूर्ति गायब हो गई थी। इस मामले में राजेंद्र पांडेय द्वारा पुलिस को अज्ञात चोरों के विरुद्ध तहरीर दी गई। घटना की सूचना पर पहुंचे प्रभारी निरीक्षक नीरज कुमार पाठक, स्वाट प्रभारी राजेश यादव ने वस्तुस्थिति की जानकारी लिया। वहीं विधि विज्ञान प्रयोगशाला की टीम ने सबूत एकत्रित किए।

छापेमारी में जुटी पुलिस : मूर्ति चोरी की घटना से हरकत में आई पुलिस द्वारा चोरों की तलाश में छापेमारी का क्रम प्रारंभ कर दिया गया है। क्षेत्र के लखनौर स्थित राम-जानकी मंदिर में चोरी की घटना के खुलासे के लिए पुलिस अधीक्षक ललित कुमार सिंह के निर्देशन में गठित स्थानीय पुलिस व स्वाट टीम द्वारा क्षेत्र में सक्रिय नामचीन चोरों के साथ ही मूर्ति चोरी के मामले में पहले से चिह्नित चोरों की तलाश में छापेमारी करते हुए घटना के खुलासे के प्रयास मे जुटी है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस