वाराणसी, जेएनएन। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल व इंटरमीडिएट परीक्षा 2020 में स्क्रूटनी (सन्निरीक्षा) के लिए वाराणसी परिक्षेत्र से 7624 परीक्षार्थियों ने आवेदन किया है। इसमें हाईस्कूल के 2043 व इंटर के 5581 परीक्षार्थी शामिल हैं। ऑनलाइन आवेदन करने की अंतिम तिथि 22 जुलाई ही बीत गई। इसके बावजूद अब तक क्षेत्रीय बोर्ड कार्यालय हाईस्कूल व इंटर की उत्तरपुस्तिकाएं नहीं पहुंची हैं। कापियां अब भी मूल्यांकन केंद्रों पर डंप पड़ी हुई हैं। ऐसे में स्क्रूटनी की तिथि को लेकर संशय की स्थिति बनी हुई है। कापी के अभाव में स्क्रूटनी के रिजल्ट में देर संभव है।

यूपी बोर्ड के हाईस्कूल व इंटरमीडिएट की परीक्षाएं छह मार्च को ही समाप्त हो गई हैं। कोविड-19 के प्रकोप के चलते मूल्यांकन 31 मई तक चला था। वहीं रिजल्ट 27 जून जारी हुआ। रिजल्ट जारी करने के साथ ही स्क्रूटनी का आवेदन भी वेबसाइट पर अपलोड कर दिया। वहीं मूल्यांकित कापियों के लिए बोर्ड ने अब तक कोई गाइड लाइन नहीं जारी किया है। मूल्यांकन केंद्र बोर्ड की गाइड लाइन का इंतजार कर रहे हैं। मूल्यांकन केंद्रों के लिए सबसे बड़ी समस्या कापियों को सुरक्षित रखने की है। 15 दिनों में एक बार कोठार (कापियों के कक्ष) का ताला खोलवा कर कीट नाशक दवाओं का छिड़काव करा रहे हैं ताकि बोर्ड को सुरक्षित कापियां सौंपी जा सकें। क्षेत्रीय कार्यालय के अपर सचिव सतीश सिंह ने बताया कि स्क्रूटनी के आवेदनों की सूची तैयार की जा रही है। इसके बाद कापियों की स्क्रूटनी होगी। ऐसे में मूल्यांकन केंद्रों से जल्द ही कापियां मंगा ली जाएंगी।

अध्यापकों ने जांच समिति पर उठाया सवाल

महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के अध्यापकों की नियुक्ति की जांच कर रही जांच टीम के सदस्य पर सवाल खड़ा किया है। अध्यापकों का कहना है कि जांच कर रहे सुधीर कुमार मानस पं दीनदयाल उपाध्याय राजकीय महाविद्यालय (पलहीपट्टी) में लाइब्रेयिन पद पर तैनात है। डीएम द्वारा गठित टीम में सुधीर का नाम नहीं है। इसके बावजूद वह शिक्षकों के अभिलेखों की जांच कर रहे हैं। इस संबंध में कुछ अध्यापकों ने शुक्रवार को कुलपति से शिकायत भी दर्ज कराई है। दूसरी ओर जांच समिति के वरिष्ठ सदस्य अनंतव्रत पांडेय का कहना है कि क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी से लिखित अनुमति लेकर सुधीर को सहयोग में लिया गया है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस