जागरण संवाददाता, वाराणसी : ईशा फाउंडेशन के संस्थापक आध्यात्मिक गुुरु पद्मभूषण जग्‍गी वासुदेव गुरुवार रात बनारस पहुंचे। शुक्रवार की सुबह काशी विश्‍वनाथ धाम दर्शन-पूजन करने के लिए पहुंचे। गुरु को साथ पाकर  देश-विदेश से जुटे अनुयायी झूम उठे। उनकी अगवानी के लिए अनुयायियों का दल जुटा हुआ है।

सद्गुरु जग्‍गी वासुदेव दो दिनी काशी प्रवास में शुक्रवार व शनिवार को अनुयायियों संग आध्यात्मिक बोध दिवस मनाएंगे। काशी क्रमा के तहत बाबा विश्वनाथ की नगरी में आए अनुयायियों को सत्संग लाभ देंगे और प्रवचन भी सुनाएंगे। सद्गुरु अनुयायियों संग श्रीकाशी विश्वनाथ धाम की चरण-शरण के बाद मोक्ष तीर्थ मणिकर्णिका के भी दर्शन कराएंगे।

 तीन दिवसीय आयोजन के लिए सद्गुरु के आगमन से पहले बुधवार को ही लगभग 600 अनुयायी काशी आ चुके हैं। इससे छावनी क्षेत्र के सभी बड़े होटल लगभग फुल हैं। सद्गुरु की आध्यात्मिक यात्रा तीन दिवसीय है। इस खास आयोजन में अनुयायी यूट्यूब लिंक पर भी आनलाइन सत्संग में शामिल हो सकेंगे।

वास्तव में काशी, विश्वनाथ व गंगा को लेकर सद्गुरु जग्गी वासुदेव पहले ही अगाध श्रद्धा जता चुके हैं। वर्ष 2019 में काशी यात्रा के दौरान वे पशुपतिनाथ मंदिर भी गए थे। उस समय फिल्म अभिनेत्री कंगना रनोट ने उनका साक्षात्कार किया था।

सद्गुरु ने कहा था कि 23 सितंबर की तारीख वह हर साल काशी में ही व्यतीत करना चाहेंगे। हालांकि कोरोना महामारी के कारण वर्ष 2020 और 2021 में सद्गुरु काशी नहीं आ सके थे। जग्गी वासुदेव के काशी आगमन पर एयरपोर्ट पर निदेशक अर्यमा सान्याल ने तुलसी का पौधा देकर स्वागत किया। होटल पहुंचने पर भी स्वागत की होड़ लगी रही।

Edited By: Saurabh Chakravarty