वाराणसी, जेएनएन। सारनाथ मिनी जू में आने वाले पर्यटकों को अब शीघ्र लगभग 10 प्रजातियों के सांप भी देखने को मिलेंगे। इसके लिए वन विभाग ने तैयारी शुरू कर दी है। विभाग ने स्नेक हाउस के लिए प्रस्ताव बनाया है। इसे शीघ्र ही वन्य जीव मुख्यालय लखनऊ भेजा जाएगा। इसके साथ ही पक्षी बिहार केंद्र में जलचर पक्षियों के जोड़े लाने के लिए भी विभाग ने कवायद शुरू कर दी है।

स्नेक हाउस में कोबरा, उडऩ सांप, गार्टर सांप, वाइपर, एलपीडी, नाग, एनाकोंडा, अजगर सहित 10 प्रजातियों के सांप रखे जाएंगे। चिडिय़ों के बाड़े को हटाकर उसके स्थान पर सांपों का केज बनाया जाएगा। टापू लान के पास चिडिय़ों का बाड़ा बनाया जाएगा।

बताया जाता है कि 5 सितंबर 2018 को सारस के एक साथी की 30 वर्ष की अवस्था मे मौत हो गई थी। अब एक ही सारस है। उसकी उम्र अधिक हो चुकी है। दुर्लभ पक्षी लोहा सारस की मौत वर्ष जनवरी 2000 में हो गई, तभी से एक साथी अकेले ही है। इसी के साथ जलचर पक्षी हवाशील के एक साथी की 11 जून 2018 को मौत हो गई। अब एक ही हवाशील पक्षी है। वन क्षेत्राधिकारी एके उपाध्याय ने बताया कि स्नेक हाउस बनाया जाएगा। 10 किस्म के सांप रखे जाएंगे। इसके साथ ही पक्षियों के जोड़े लाने के लिए प्रस्ताव बनाकर वन्य जीव मुख्यालय, कानपुर प्राणी उद्यान विभाग व केंद्रीय चिडिय़ाघर प्राधिकरण लखनऊ भेजा जाएगा।