वाराणसी, जेएनएन। जिले में चार स्थानों पर चल रही कम्युनिटी किचन के साथ ही वर्तमान में संचालित सभी शेल्टर होम की जियो टैगिंग होगी। डीएम ने प्रवासी श्रमिकों के होम क्वारंटाइन के लिए ग्राम निगरानी समिति को विशेष नजर रखने को कहा है। ग्राम निगरानी समितियों से कहा गया है कि आने वाले प्रत्येक श्रमिक की निगरानी करें और उन्हें होम क्वारंटाइन कराएं।

जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने कैंप कार्यालय सभागार में अफसरों संग बैठक कर शेल्टर होम, डिस्पैच सेंटर, कम्युनिटी किचन के संबंध में समीक्षा की। जिला पूर्ति अधिकारी से विवरण तलब करते हुए कहा कि जिन भी पात्र लाभाॢथयों का राशन कार्ड बनना है, उनका प्राथमिकता पर कार्ड बनायें तथा जिन लाभार्थी का डाटा वेबसाइट पर फीड हो चुका है, एक हजार रुपये तत्काल उनके खाते में भेजा जाए।  बैठक में डीओ फूड द्वारा बताया गया कि वर्तमान समय में 15 संस्थाओं द्वारा लगभग 13000 फूड पैकेट प्रतिदिन वितरित किया जा रहा है। वर्तमान में कुल चार कम्युनिटी किचन विभिन्न जगहों यथा नवोदय विद्यालय, गजोखर, मदरलैण्ड स्कूल, मोहनसराय, संदहा डिस्पैच सेंटर व रेलवे स्टेशन कैण्ट पर चलाया जा रहा है। इन जगहों पर आने वाले श्रमिकों को कम्युनिटी किचन से ही खाना खिलाया जाता है। निर्माण श्रमिकों के खाते की फीडिंग कराकर धनराशि ट्रांसफर करने का निर्देश दिया। बैठक में नगर आयुक्त गौरांग राठी, मुख्य विकास अधिकारी मधुसूदन हुलगी, अपर जिलाधिकारी प्रशासन एवं वित्त राजस्व, समस्त उपजिलाधिकारी एवं अन्य संबंधित अधिकारी उपस्थित रहे।

नोडल अधिकारी पहुंचे क्वारंटाइन सेंटर

कोविड-19 के तहत निगरानी के लिए शासन की ओर से नामित नोडल अधिकारी अंकित अग्रवाल ने मंगलवार को शिवपुर के परमानंदपुर क्वारंटाइन सेंटर का निरीक्षण किया। वर्तमान में वहां छह लोग क्वारंटाइन हैं। नोडल अधिकारी ने सभी से मिलकर वहां प्रदत्त सुविधाओं तथा उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली। निरीक्षण के समय मौके पर अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. राहुल सिंह तथा चिकित्साधिकारी डा. जावेद एवं अन्य पैरामेडिकल स्टाफ उपस्थित थे।

Posted By: Saurabh Chakravarty

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस