वाराणसी : संपूर्णानंद संस्कृत विश्वविद्यालय से संबद्ध कालेजों के छात्रों को अंकपत्र अब तक नहीं मिल सका है। वर्ष 2017 में संबद्ध कालेजों से करीब 70 हजार विद्यार्थी शास्त्री-आचार्य की परीक्षा में शामिल हुए थे। इन परीक्षार्थियों का परिणाम जुलाई में ही जारी कर दिया था। बावजूद अंकपत्र अभी भी फंसा हुआ है। इसके चलते संबद्ध कालेजों में अब तक दाखिला भी पूर्ण नहीं हो सका है। इस प्रकार विश्वविद्यालय में आंदोलन की आंच संबद्ध कालेजों तक है।

अंकपत्रों के वितरण के लिए संबद्ध कालेजों के प्रतिनिधियों को 13 से 18 अक्टूबर तक मंडलवार विश्वविद्यालय में बुलाया गया था। अध्यापकों व कर्मचारियों के आंदोलन के चलते अंकपत्रों के वितरण का कार्य अग्रिम आदेश तक के लिए स्थगित कर दिया गया है। इसकी सूचना विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर भी अपलोड कर दी गई है। कई महाविद्यालयों को फोन से भी इसकी सूचना दी गई थी। विश्वविद्यालय प्रशासन ने स्वीकार किया कि अंकपत्रों के अभाव में संबद्ध कालेजों में दाखिला भी अब तक पूरा नहीं हो सका है। हालांकि दाखिले के लिए रजिस्ट्रेशन कराने की अंतिम तिथि 22 अक्टूबर को ही बीत गई है लेकिन विश्वविद्यालय बंद होने के कारण संबद्ध कालेजों से डाटा नहीं प्राप्त हो सका है।

तिथि बढ़ाने पर हो रहा विचार

विश्वविद्यालय में आंदोलन को देखते हुए नए सत्र में रजिस्ट्रेशन कराने की तिथि बढ़ाने पर भी विचार चल रहा है। इस संबंध जल्द ही कोई निर्णय लिया जा सकता है।

----

'सभी कक्षाओं का अंकपत्र तैयार है। विश्वविद्यालय में आंदोलन के चलते अंकपत्रों का वितरण नहीं किया जा सका। आंदोलन खत्म होते ही वितरण की नई तिथि जारी की जाएगी। प्रमाणपत्र भी तैयार कर लिए गए हैं। हालांकि प्रमाणपत्रों का वितरण दीक्षांत समारोह के बाद किया जाएगा।

-प्रो. राजनाथ, परीक्षा नियंत्रक

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस