जागरण संवाददाता, वाराणसी : मदरसों के सर्वे के साथ ही वक्फ बोर्ड की संपत्तियों की जांच भी शुरू हो गई है। शासन की ओर से इस आशय का आदेश जारी किया गया है कि बंजर, भीटा, ऊसर भूमि अगर वक्फ के रूप में दर्ज है तो अब इसे खारिज कर पुन: बंजर, ऊसर भूमि राजस्व दस्तावेज में दर्ज किया जाए।

शासन के आदेश के क्रम में जिलाधिकारी की ओर से जिले के सदर, राजातालाब व पिंडरा तहसील के एसडीएम की अगुवाई में टीम गठित कर इसकी जांचकर एक माह के अंदर रिपोर्ट देने को निर्देश दिया गया है।

ये है वक्फ बोर्ड की संपत्ति

वक्फ संपत्ति दो तरह की होती है। समुदाय से जुड़े लोग मस्जिद, इमामबाड़ा समेत अन्य धार्मिक कार्य के लिए अपनी जमीन बैनामा यानी वक्फ बाई डीड करते है। बैनामा की इस सपंत्ति को अलल औलाद भी कहते हैं। डीड में कुछ लोग अपने परिवार को देखरेख की जिम्मेदारी तय करते हैं। कुछ वक्फ के हवाले कर देते हैं। दूसरी संपत्ति वक्फ बाई यूजर है यानी अपनी जमीन धार्मिक प्रयोजन में स्वयं इस्तेमाल करते हैं।

राज्य सरकार का आदेश

प्रदेश सरकार ने वक्फ बोर्ड से जुड़ा 33 साल पुराना आदेश रद्द कर दिया है। सात अप्रैल, 1989 को तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने एक आदेश जारी किया था। कहा गया था कि यदि सामान्य संपत्ति बंजर, भीटा, ऊसर आदि भूमि का इस्तेमाल वक्फ के रूप में किया जा रहा हो तो उसे वक्फ संपत्ति के रूप में ही दर्ज कर दिया जाए। इसके बाद सीमांकन किया जाए।

इस आदेश के चलते प्रदेश में लाखों हेक्टेयर बंजर, भीटा, ऊसर भूमि वक्फ संपत्ति के रूप में दर्ज कर ली गई। राजस्व परिषद के प्रमुख सचिव सुधीर गर्ग ने 33 साल पुराने आदेश को समाप्त कर दस्तावेजों को दुरुस्त करने के निर्देश दिए है। अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ अनुभाग के उप सचिव शकील अहमद सिद्दीकी ने डीएम को पत्र भेजकर इस तरह के सभी भूखंडों की सूचना एक माह में मांगी है। साथ ही अभिलेखों को भी दुरुस्त करने के निर्देश दिए हैं।

शासन ने वक्फ बोर्ड की संपत्तियों की समग्र जानकारी मांगी है

शासन ने वक्फ बोर्ड की संपत्तियों की समग्र जानकारी मांगी है। इस आशय के आदेश के क्रम में जिलाधिकारी की ओर एसडीएम को निर्देशित कर दिया गया है। एक माह के अंदर रिपोर्ट मांगी गई है।

संजय कुमार मिश्रा, उप निदेशक व जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी

वक्फ के रूप में बंजर, भीटा समेत अन्य जमीन होंगे दर्ज तो अब होंगे खारिज

-जिले में वक्फ बोर्ड की 1469 प्रापर्टी पंजीकृत

-1348 प्रापर्टी जुड़ी हैं सुन्नी समुदाय से

-121 प्रापर्टी शिया समुदाय के नाम दर्ज

Edited By: Saurabh Chakravarty

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट