वाराणसी [वंदना सिंह]। महिलाओं के साथ बढ़ते अपराध को देखकर आजकल सेफ्टी गैजेट्स और एप का चलन तेजी से बढ़ा है। छात्राएं तो विशेषतौर से इन गैजेट्स की ऑनलाइन शापिंग कर रही हैं। इसके साथ ही इस तरह के गैजेट्स एक्सपट्र्स तेजी से तैयार कर रहे हैं। इसमें घडिय़ां, लॉकेट, ब्रेसलेट के साथ ही लिपस्टिक विथ टार्च, टार्च विथ शॉक, साउंड ग्रेनेड, पेपर स्प्रे रिवाल्वर आदि कई ऐसे गैजेट हैं जिनकी आकार बहुत छोटा है और आसानी से इसे अपने पास छुपाया जा सकता है। महिलाएं आपातकाल में इसका प्रयोग कर अपना बचाव कर सकती हैं। खास बात यह कि इनकी कीमत भी आपकी बजट में है।

टार्च विथ शॉक : जैसा कि नाम से ही जाहिर हो रहा है। ये देखने में एक छोटा सामान्य सा टार्च लगेगा। इसमें लाइट जलेगी लेकिन अगर कोई आपसे छेड़खानी करने की कोशिश कर रहा है या फिर हमला कर रहा है तो इसमें लगे पिन को उसके शरीर में चुभा देने से उसे तेज करेंट लगेगा। वह दूर जाकर गिरेगा और कुछ समय के लिए उसकी चेतना शून्य हो जाएगी। 

 

साउंड ग्रेनेड : यह लगभग 20 ग्राम का गैजेट होगा। इसका पिन खींचने पर 120 डेसीबल का सायरन बजने लगता है जिसकी रेंज सौ मीटर तक होगी। इसमें चार्जेबल बैटरी होती है। 

सेफलेट ब्रेसलेट : ब्रेसलेट के आकार का सेफलेट गैजेट को मोबाइल से कनफिगर करना होता है। यह यूजर के फोन के साथ लिंक होता है और इसका बटन दबाते ही आडियो रिकार्ड करने लगेगा और जिस नंबरों को आपने इसमें इमरजेंसी नंबर के तौर पर सेव किया होगा उस पर कॉल जाने लगती है। 

पेपर स्प्रे पिस्टल : सेल्फ डिफेंस के हिसाब से यह बढिय़ा गैजेट है। इसमें सिर्फ आंखें ही नहीं शरीर के किसी भी हिस्से पर अगर ये स्प्रे कर दिया जाएगा तो वहां तेज जलन पैदा हो जाएगी। इसका दो स्प्रे ही हमलावर पर काफी होगा।

 

लिपस्टिक टार्च : इसे देखकर कोई समझ ही नहीं पाएगा कि यह लिपस्टिक जैसा दिखने वाला सामान असल में एक टार्च है। वहीं सेफ्टी रॉड भी एक ऐसा गैजेट है जो छोटे आकार का होता है मगर इसका फोल्ड खोलने पर यह एक रॉड का रूप ले लेता है। किसी हमले में इससे आप अपना बचाव कर सकती हैं।

सेफर स्मार्ट पेंटेंट- इस लॉकेट में एक गोल डिवाइस लगा होता है। आपातकाल में इसके बटन को दो बार दबाने पर यह उन नंबरों पर अलर्ट मैसेज भेजेगा जिसे आपने इसमें कनफिगर किया था। आपका लोकेशन भी बताएगा। 

बोले एक्‍सपर्ट : इस वक्त जो भी गैजेट बन रहे हैं उनका आकार बेहद छोटा और रूप ऐसा है जिससे कोई भी धोखा खा सकता है। वह पेंडेंट, ज्वेलरी, टार्च, खिलौने, लिपस्टिक आदि की शक्ल में बन रहे हैं। कुछ ऐसे एप भी बन गए हैं जिन्हें मोबाइल पर इंस्टाल करने पर आपका लोकेशन पता चलेगा, आपातकाल में एसओएस सायरन भी बजेगा और आसपास के लोग भी आपकी मदद को आ जाएंगे क्योंकि सायरन की आवाज काफी तेज होगी। साथ ही उन नंबरों को भी आपके खतरे में होने का संदेश मिल जाएगा जिसे आपने रजिस्टर किया होगा। खास बात यह कि केवल छेड़खानी, हमले ही नहीं अगर आप लिफ्ट में बंद हो गए हैं तो भी यह काम करेगा। - आलोक दीप, आइटी कंसल्टेंट, टेक्नोलॉजी एक्सपर्ट।

बोले एक्‍सपर्ट : सुरक्षा उपकरण व एप को लेकर महिलाओं में जागरूकता बढ़ी है। ऐसे में टार्च विथ शॉक एक बेहतरीन सुरक्षा गैजेट के तौर पर उभरकर आया है। ये रोशनी देने के साथ ही हमलावर को बिजली का झटका भी देगा। वहीं रिमोट के आकार का पैनिक बटन गैजेट जिसमें जीएसएम होता है। इसे दबाने पर उन नंबरों पर साइलेंटली कालिंग शुरू हो जाती जिसे आपने रजिस्टर किया होगा। इसमें जो दूसरी तरफ आपका काल रिसीव करेगा उसे आवाज भी सुनाई देगी और लाइव लोकेशन भी मिल जाएगा। - विद्याभूषण, टेक्नोलॉजी एक्सपर्ट।

छात्राएं ले रहीं गैजेट्स

1- लड़कियों के साथ छेड़खानी की घटना बढ़ रही है। सरकार अपनी तरफ से काम कर रही है लेकिन हम भी अपनी सुरक्षा के लिए इन गैजेट्स को लेना चाहते हैं।- आशियां, छात्रा।

2- हैदराबाद सहित कई घटनाओं को देखकर भय लगता है। हम अपने दोस्तों के साथ इस तरह के गैजेट को सर्च कर उसे खरीद रहे हैं ताकि अपनी सुरक्षा खुद से भी कर सकें।- साक्षी श्रीवास्तव, छात्रा।

Posted By: Abhishek Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस