जागरण संवाददाता, वाराणसी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि ग्रामीण अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए 500 की आबादी तथा नक्सल प्रभावित क्षेत्रों की 250 आबादी वाले ग्राम सभाओं को सड़क निर्माण कराकर मुख्य मार्ग से जोड़ा जा रहा है। गांवों के विकास को रफ्तार, खुशहाली और रोजगार के लिए सड़क आवश्यक है। इस कार्य के लिए धन की कोई कमी नहीं।

मुख्यमंत्री बुधवार को लखनऊ से वर्चुअल जिला पंचायत की ओर से प्रदेश में हाट मिक्स पद्धति से 195.07 करोड़ की लागत से निर्मित होने वाले 537.82 किलोमीटर लंबे 509 ग्रामीण मार्गों के लोकार्पण के दौरान यह बातें कहीं। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर 33.75 करोड़ की लागत से 48.62 किमी लंबे 14 ग्रामीण मार्गों का एफडीआर तकनीकी से निर्माण का शिलान्यास, प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना अंतर्गत 4130.27 करोड़ की लागत से 6208.45 किलोमीटर लंबे 886 ग्रामीण मार्गों के निर्माण कार्य का शुभारंभ तथा 155 करोड़ की लागत से 1930 किमी लंबे 692 ग्रामीण मार्गों के नवीनीकरण कार्य का भी लोकार्पण किया। वाराणसी जनपद की भी इसमें सड़कें शामिल रहीं। वाराणसी के जोगियापुर-बीरापुर-जोगापुर मार्ग, सिरिहिरा मार्ग, गौरा, बाईपास रमसीपुर-नवापुरा बाया पंडितपुर मिसिरपुर, अकेलावा- सरायमोहन-अदलपुरा, अकेलावा-सरायमोहन-अदलपुरा-गंजारी, मंगारी- सिंधोरा मार्ग, तेवर-पलहीपट्टी मार्ग, आयर मार्ग तथा जिला पंचायत वाराणसी द्वारा हाट मिक्स पद्धति से निॢमत ग्राम सभा बाराडीहा, भाऊपुर, हरिभानपुर मुख्य मार्ग से ग्राम बाजार कालिका एवं ग्राम बाराडीह की ओर पिच रोड निर्माण व ग्राम सभा रघुनाथपुर, प्राथमिक पाठशाला से पिच रोड तक लेपन निर्माण कार्य सहित 11 मार्ग का लोकार्पण तथा प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना अंतर्गत 68.92 लाख की लागत से विधानसभा क्षेत्र पिड्रा के 3 किलोमीटर लंबे पिंडरा- बेलवा-निन्दनपुर मार्ग एवं लगभग 6 किलोमीटर लंबे वाराणसी-आजमगढ़ रोड पर मोहम्मदपुर-रामपुर मार्ग का शिलान्यास हुआ। जिला पंचायत अध्यक्ष पूनम मौर्या ने जिला पंचायत की ओर से निर्मित रोड का लोकार्पण किया। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा, मुख्य विकास अधिकारी अभिषेक गोयल व अपर मुख्य अधिकारी भी मौजूद रहे।

पायलट प्रोजेक्ट में जौनपुर व आजमगढ़ शामिल

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में एफडीआर तकनीकी का समावेश किया गया है। जौनपुर एवं आजमगढ़ में इसे पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लागू किया गया है। इससे सड़क की गुणवत्ता लंबे समय तक बनी रहेगी। हॉट मिक्स प्लांट से सड़कें टिकाऊ होंगी और गुणवत्ता पर सवाल भी नहीं उठेंगे।

कार्रवाई की भी चेतावनी

जिला पंचायत अपनी सड़कों को बेहतर तरीके से सुदृढ़ रखने की जिम्मेदारी निभाएं। जिला पंचायतों में ठेकेदारों के भुगतान लंबी अवधि तक लंबित रखने की शिकायतों को भी जिक्र किया। कहा कि भ्रष्टाचार के मामले में अयोध्या, कौशांबी एवं गाजीपुर के जिला पंचायत के कतिपय अधिकारियों के विरुद्ध शासन स्तर से कठोर कार्यवाही की गई है। इसलिए भुगतान लापरवाही न बरतते हुए गुणवत्ता व समयबद्धता के साथ कार्य पूरे कराए जाएं। जिला पंचायत अध्यक्ष निर्माण कार्यों की स्थलीय निरीक्षण करें। सार्वजनिक संपत्ति पर कब्जा रोकने के लिए अधिकारी प्लान तैयार करें ताकि सही ढंग से जमीनों का उपयोग हो सके।

गांवों को बनाए स्मार्ट

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गांव की सार्वजनिक भूखंडों पर ओपन जिम, खेल का मैदान व स्टेडियम बनाने में दानदाताओं के सहभागिता सुनिश्चित कराए जाने पर बल दिया। कहा कि गांव को स्मार्ट विलेज के रूप में विकसित करें। सीसीटीवी कैमरों से जोडऩे, एसटीपी, यात्री शेड व बस स्टैंड , पशुओं की नस्ल सुधार केंद्र, गांव के विशेष उत्पाद को समृद्ध बनाने के साथ ही रोजगार परक योजनाओं के संचालन पर जोर दिया।

 

Edited By: Saurabh Chakravarty