वाराणसी, जागरण संवाददाता। स्मार्ट सिटी कंपनी के कार्यालय में सोमवार को नगर आयुक्त प्रणय सिंह ने नगर निगम के विभागाध्यक्षों के साथ बैठक की। इस दौरान दो टूक संदेश दिया। कहा कि नगर की सड़कें व पटरियों के साथ ही गलियां साफ दिखे तो रात के अंधेरे में भी शहर हेरिटेज लाइटों की दूधिया रोशनी में चमकता रहे। नगर आयुक्त ने कहा कि मूलभूत सुविधाओं का अविलंब निस्तारण किया जाए।

नगर आयुक्त ने सभी विभागों की ओर से किए जा रहे कार्यों का प्रस्तुतिकरण के माध्यम से अवलोकन किया। इसके अंतर्गत कार्यों की प्रगति, पूर्णता की स्थिति, समस्या आदि के बारे में जानकारी प्राप्त की। नगर आयुक्त ने निर्देशित किया गया कि जनहित व कार्यहित के दृष्टिगत आवश्यक संसाधनों को पूरा किया जाए। आम नागरिकों की सुविधाओं में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं होने पाए। साथ ही विभागों को सुझाव भी दिए गए। बैठक में जलकल विभाग, स्वास्थ्य विभाग, सामान्य अभियंत्रण विभाग, परिवहन विभाग, मार्गप्रकाश विभाग, प्रवर्तन दल विभाग ने एक-एक कर योजनाओं के बारे में जानकारी की। इस दौरान शाही नाले की सफाई के साथ ही नई पेयजल योजना के जनोपयोगी को लेकर भी पूछताछ की गई। जलकल विभाग ने जल निगम की लापरवाही की ओर इशारा करते हुए नगरीय प्रबंधन में बड़ी बाधा बताया गया। बैठक में अपर नगर आयुक्त देवी दयाल वर्मा, अपर नगर आयुक्त सुमित कुमार, संयुक्त नगर आयुक्त जगदीश यादव, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. एनपी सिंह, महाप्रबंधक जलकल रघुवेंद्र कुमार, प्रभारी अधिकारी आलोक अजय राम, मुख्य कर निर्धारण अधिकारी पीके द्विवेदी, कम्प्यूटर कोआर्डिनेटर संदीप श्रीवास्तव आदि उपस्थित थे।

अनुपस्थित मिले 14 कर्मी, कटा वेतन

नगर आयुक्त प्रणय सिंह ने सोमवार को सुबह 10 बजे नगर निगम मुख्यालय स्थित सभी विभागों का औचक निरीक्षण किया। इस दौरान पटलों पर हो रहे कार्यों का अवलोकन किया। परिसर में कई स्थानों पर लटके जाले व गंदगी मिली। इस संबंध में संबंधित सफाई निरीक्षक और नाजीर पर गहरी नाराजगी व्यक्त की। तत्काल साफ कराने का निर्देश दिया। समय से कार्यालय न आने पर विभिन्न विभागों के कुल 14 कर्मचारियों का एक दिन का वेतन काटने का निर्देश लेखाधिकारी को दिया। नगर आयुक्त ने सभी अधिकारियों व कर्मचारियों को निर्देशित किया गया कि वे समय से विभागों में उपस्थित होकर आवंटित कार्यों का निर्धारित समय के अंदर पूरा निस्तारित करें। नगर आयुक्त ने कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत परिसर के अंदर मास्क पहनना अनिवार्य करते हुए इसके प्रति लापरवाही करने वालों पर कार्रवाई के लिए आदेशित किया। कहा कि मुख्य गेट के अंदर प्रवेश करने वालों का हाथ सैनिटाइज और मास्क पहनना सुनिश्चित कराया जाए। उन्होंने जन्म-मृत्यु पंजीयन कार्यालय में खिड़की से ही फार्मों के लेने व देने के क्रम को बनाए रखने के लिए निर्देशित किया। कहा कि कोई भी बाहरी विभाग के अंदर कर्मचारी के टेबल तक न पहुंचे। इसका ध्यान सुरक्षा कर्मी रखें।

Edited By: Saurabh Chakravarty