जागरण संवाददाता, वाराणसी। प्रधानमंत्री के हाथों लोकार्पित 5189 करोड़ की लागत से निर्मित रिंग रोड फेज दो, मार्ग चौड़ीकरण, पुल, पार्किंग, ई नाम मंडी समेत 28 परियोजनाएं सभी वर्ग के लिए लाभकारी साबित होंगी। काशी की सबसे बड़ी समस्या जाम से मुक्ति की राह बहुत हद तक दूर होगी। राजातालाब से वाजिदपुर हरहुआ मार्ग तक तक निर्मित 16.98 किमी रिंग रोड फेज दो के निर्माण के कारण भारी वाहनों की इंट्री अब शहर में कम होगी तो वहीं 3509 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित एनएच 29 पैकेज दो के 72. 15 लंबे वाराणसी से विरनोन गाजीपुर राजमार्ग के निर्माण से आवागमन सुगम होगा। वहीं 18. 66 करोड़ की लागत से छावनी से पड़ाव तक की निर्मित सड़क चौड़ीकरण से जाम से मुक्ति मिलेगी।

कोनिया सेतु

कोनिया-सलारपुर मार्ग पर 26.21 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित वरुणा नदी का कोनिया घाट सेतु से हजारों आमजन को फायदा होगा। दीनापुर, रामचंदीपुर, कमौली समेत दर्जनों इलाकों में दस हजार से अधिक लोग को फायदा होगा। फूल व सब्जी की खेती करने वाले अब सीधे शहर में आ सकेंगे। इस क्षेत्र के लोगों को पांच से आठ किलोमीटर की दूरी तय कर पुराना पुल से शहर में प्रवेश करना पड़ता था।

कालिका धाम सेतु

बाबतपुर-कपसेठी भदोही मार्ग पर वरुणा नदी पर बने 19.14 करोड़ की लागत से दो लेन का कालिकाधाम सेतु के निर्माण से अब जौनपुर से भदोही व प्रयागराज को जाने वाले भारी वाहनों को शहर में प्रवेश की जरूरत नहीं पड़ेगी। अब यह सीधे बाहर ही बाहर निकल जाएंगे। इसके अलावा कुरू, रायपुर, धौकलगंज, दानूपुर, महिमापुर, बलुआ आदि गांवों के पचास हजार से अधिक लोगों इससे फायदा मिलेगा।

सर्किट हाउस व टाउन हाल पार्किंग

कचहरी पर आए दिन लगने वाले जाम से कुछ हद तक मुक्ति दिलाएगा 26.77 करोड़ की लागत से निर्मित सर्किट हाउस परिसर स्थित अंडर ग्राउंड पार्किंग। पीएम के हाथों लोकार्पित होते ही इसे जनता के लिए खोल दिया गया है। इस पार्किंग में चार पहिया व दो पहिया लगभग पांच सौ वाहनों की पार्किंग हो सकेगी। इसी प्रकार टाउनहाल में 23.31 करोड़ की लागत से निर्मित पार्किंग व पार्क का पुनर्विकास कार्य से हजारों लोगों को फायदा मिलेगा। लगभग चार सौ से अधिक वाहन इसमें खड़े हो सकेंगे। इस तरह विशेश्वरगंज, मैदागिन पर लगने वाले जाम से निजात मिलेगी।

Edited By: Saurabh Chakravarty