वाराणसी, जेएनएन। परहेजगारी और इबादतगुजारी के साथ रमजान के रोजे मुकम्मल करने के बाद ईद-उल-फित्र खुदा की ओर से अपने बंदों के लिए इनाम का दिन है। मंगलवार शाम चांद की तस्दीक के साथ रमजानुल मुबारक का पाक महीना मुकम्मल होगा। इसी के साथ रोजेदार ईद की खुशी में डूब जाएंगे। रमजान की 29वीं तारीख यानी मंगलवार को चांद निकलने के उम्मीद है। आसमान में हल्के-फुल्के बादल छाए रहने की संभावना है, जिस कारण खुली आंखों से चांद की तस्दीक संभव नहीं होगी। ऐसी सूरत में मरकजी रुय्यते हेलाल कमेटी ही चांद की तस्दीक पर फैसला करेगी। इसके लिए नई सड़क स्थित लंगड़े हाफिज की मस्जिद में मंगलवार को मगरिब की नमाज के बाद कमेटी की बैठक होगी। रात आठ बजे तक चांद को लेकर एलान कर दिया जाएगा।

कमेटी में सभी वर्ग के उलमा- ए-कराम शामिल हैं। आपसी राय मशवरे व कुरआन-हदीस की रोशनी में चाद की तस्दीक को लेकर फैसला किया जाता है। वहीं उलमा-ए-कराम ने आम लोगों से अपील की है कि मगरिब की नमाज के बाद चांद देखने के लिए जरूर जाएं। चांद दिख जाने पर इसकी सूचना तत्काल उलमा-ए-कराम तक पहुंचाएं। कई बार मनाई जा चुकी है दो ईद चांद को लेकर असमंजस की स्थिति में शहर के मुसलमान कई बार दो ईद मना चुके हैं। सुन्नी व देवबंद उलमा में मतभेद के कारण कई बार यह स्थिति बनी। इसके बाद सभी वर्ग के उलमा-ए-कराम आपसी मतभेद को भुलाते हुए एक मंच पर आए। पिछले कई वर्ष से आपसी मशवरे ओर कुरआन-हदीस की रोशनी में चांद की तस्दीक पर फैसले लिए जा रहे हैं। 50 रुपये है फितरा, ईद की नमाज से पहले करें अदा रमजान के 30 रोजे व ईद के बीच की चांद रात को आसमान से खुदा के बेपनाह रहमतों की बारिश होती है। अर्श पर फरिश्ते ईद की तैयारी में मशगूल होते हैं।

इसलिए सदका-ए-फित्र की रकम ईद की नमाज से पहले-पहले उसके हकदारों तक पहुंचा देनी चाहिए। उस्मानिया जामा मस्जिद, उस्मानपुरा के इमाम व खतीब मौलाना हारून रशीद नक्शबंदी ने बताया कि 2 किलो 45 ग्राम गेहूं बतौर फितरा अदा करने का हुक्म है, जिसकी वर्तमान कीमत करीब 49.5 रुपये निकलती है। इसलिए प्रति व्यक्ति कम से कम 50 रुपये फितरा निकालें और ईद की नमाज से पहले-पहले अदा कर दें। सड़कें गुलजार, खरीदारों से पटे बाजार ईद की तैयारियों में जुटे लोगों की हड़बड़ी बढ़ती ही जा रही है। आखिरी दौर की खरीदारी को लेकर लोग बाजारों की दौड़ लगा रहे।

युवतियां जहां चूड़ी, कंगन, पर्स, जूतियां संग सौंदर्य प्रसाधन खरीदने में मशगूल हैं। वहीं युवा जींस, रेडीमेड शर्ट, जूता, चश्मा, परफ्यूम आदि की दुकानों के चक्कर लगा रहे हैं। बच्चों में कुर्ता-पायजामा, शेरवानी व जींस का क्रेज है। खरीदारी का ये आलम है कि चौक, दालमंडी, बेनियाबाग व नई सड़क, गोदौलिया आदि बाजारों में शाम ढलते ही पैर रखने की जगह नहीं बचती। दालमंडी क्षेत्र के बाजारों में सिर्फ बनारस ही नहीं जौनपुर, बलिया, गाजीपुर, आजमगढ़, मऊ, मीरजापुर, भदोही आदि जिलों से लोग ईद की खरीदारी करने पहुंच रहे हैं। वहीं मलदहिया क्षेत्र के मॉल्स भी खरीदारों के लिए देर रात तक खुले रहते हैं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस