वाराणसी, जेएनएन। दामिनी, लज्जा, द लीजेंड ऑफ भगत सिंह, अंदाज अपना-अपना, फटा पोस्टर निकला हीरो, अजब प्रेम की गजब कहानी जैसी बेहतरीन फिल्मों का निर्देशन करने वाले निर्माता व निर्देशक राजकुमार संतोषी ने लगभग हर जॉनर में हाथ आजमाया और सफलता के नए कीर्तिमान स्थापित किए। एक कार्यक्रम के सिलसिले में शनिवार को वे बनारस में थे। अपनी आगामी फिल्म, बनारस को लेकर धारणा और अगली कार्ययोजना को लेकर उन्होंने दैनिक जागरण संवाददाता मुहम्मद रईस से बातचीत की। प्रस्तुत है मुख्य अंश...। 

आपकी अगली फिल्म किस विषय पर है और कब शुरू हो रही है। 

दामिनी की तर्ज पर महिला सशक्तिकरण पर केंद्रित फिल्म बनाने के लगातार सुझाव मिल रहे थे। मेरी अगली फिल्म की विषय-वस्तु कमोबेश वैसी ही है। स्क्रिप्ट फाइनल है, स्टार कास्ट भी लगभग तय हो चुके हैं। जनवरी में इसकी विधिवत घोषणा करूंगा। 

आपके सफलता की फेहरिस्त बहुत लंबी है, शुरूआत कैसे हुई। 

लिस्ट में अभी और भी इजाफे होंगे। मेरे पिता निर्माता-निर्देशक पीएल संतोषी ने देवानंद, किशोर कुमार को ब्रेक दिया था। उन्हीं से फिल्म मेकर बनने की प्रेरणा मिली। 

अंदाज अपना-अपना बेजोड़ फिल्म थी, इसका सिक्वल कब तक आएगा। 

फिलहाल अंदाज अपना-अपना के सिक्वल की कहानी लिख रहा हूं। फिल्म 2022 में आएगी। 

कम बजट की फिल्मों का दौर चल पड़ा है, क्या बड़ी फिल्में प्रभावित होंगी। 

बिल्कुल नहीं। जिसकी कहानी अच्छी होगी, चलेगी। 

बनारस में आपने क्या बदलाव महसूस किया। 

एयरपोर्ट से आते समय सड़कें बहुत बेहतरीन मिली। बनारस पहले भी आता रहा हूं। बाबा विश्वनाथ की नगरी ने मुझे हमेशा आकर्षित किया है। अगली फिल्म में यहां के कुछ दृश्य जरूर रखूंगा। 

आपके मुताबिक आपकी कौन सी फिल्म आपके दिल के ज्यादा करीब है। 

 'द लीजेंड ऑफ भगत सिंह' यह फिल्म बनाकर मुझे लगा कि वाकई मैंने कुछ काम किया, देश के लिए कुछ किया। भगत सिंह की शख्सियत अद्वितीय थी। कम उम्र में ही उन्होंने देश के लिए बहुत कुछ किया। आज भी उनका व्यक्तित्व युवाओं को प्रेरणा दे रहा है। 

Posted By: Abhishek Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस