वाराणसी, जेएनएन। कमिश्नरी सभागार में शुक्रवार को एक ऐसा मंच सजा था, जिसमें किसानों के साथ ही जिलाधिकारी सरीखे तमाम आला अधिकारी भी समस्या गिना रहे थे। सभी की शिकायतों एवं सुझावों को गंभीरता से सुना गया। मौका था मंडलीय रबी गोष्ठी का, जिसके मुख्य अतिथि मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी थे। उन्होंने ने तो यहां तक कह दिया कि आप सभी मान लें कि आपकी समस्या दूर हो गई। रैक प्वाइंट की मांग पर मुख्य सचिव ने कहा कि कोशिश होगी कि हर जिले में रैक प्वाइंट होगा। ताकि खाद की समस्या दूर हो।

जौनपुर के डीएम ने मांगी रैक प्वाइंट की स्वीकृति

जौनपुर के जिलाधिकारी ने सबसे पहले इस समस्या को मंचासीन मुख्य सचिव के साथ ही कृषि, सिंचाई, उद्यान, पशुधन विभाग के प्रमुख सचिवों के समक्ष रखा। उन्होंने कहा कि प्रस्ताव बनाकर भेजा गया है। अगर शासन से स्वीकृति मिल जाएं तो जौनपुर के किसानों की एकमात्र समस्या भी दूर हो जाएगी। गाजीपुर के डीएम ने भी खाद की ही समस्या बताई। साथ ही उन्होंने बाढ़ से प्रभावित किसानों की राहत की भी मांग की। इससे पहले चंदौली के डीएम ने अपनी उपलब्धियां गिनाई। वहीं वाराणसी के सीडीओ गौरांग राठी तीन समस्या रखी। बताया कि बेसहारा गौवंश व नीलगाय के कारण फसल बर्बाद हो रही है, जिसके लिए कैटल कैचर की मांग की। साथ ही उन्होंने और अधिक क्रय केंद्र विकसित करने की मांग की।

पंचायत स्तर पर हो कृषि यंत्र की व्यवस्था

 मीरजापुर के डीएम ने पंचायत स्तर पर भी कृषि यंत्र रखने का सुझाव दिया। ताकि गांव से ही किसान भाड़े पर यंत्रों का उपयोग कर सकें। साथ ही उन्होंने बंद पड़े शीत गृहों को दुरूस्त कराकर शुरू करने की भी मांग की। दो डैम के जिर्णोधार एवं लो-वोल्टेज की समस्या को दूर करने, मनरेगा का लख्य बढ़ाने की भी मांग की।

सोनभद्र में ट्रांसफार्मर खराब होने से पंप बंद

सोनभद्र के डीएम पंप एवं बिजली की समस्या बताई। कहा कि 10 एमवीए का ट्रांसफार्मर खराब होने से एक पंप नहीं चल पा रहा है। उन्होंने भी रैक प्वाइंट की मांग की। भदोही के डीएम ने किसानों को उन्नत बीज मुहैया कराने की मांग की।

अधिकारियों एवं किसानों की बात सुनने के बाद मुख्य सचिव ने कहा कि आज से कुछ वर्षों पहले गोष्ठी में बीज, खाद, बिजली समस्या पर ही 80 प्रतिशत समय नुकसान हो जाता था। अब यह मुख्य समस्या नहीं रह गई है। कहा, सरकार की मंशा एवं प्राथमिकता में किसानों की आय बढ़ाना है।

तहसील दिवस के बाद लखनऊ नहीं पहुंचे शिकायत

मुख्य सचिव ने कहा कि अगर कोई शिकायत तहसील दिवस में आ रही है तो उसका निस्तारण कर दिया जाएं। अगर हल होने लायक रहे तो हल हो वरना खारिज कर दिया जाएं। ताकि ऐसी शिकायत लखनऊ नहीं पहुंचे। कहा कि प्रदेश में 30-40 साल पुरानी समस्या का भी निस्तारण किया गया है, जिसके कारण डेढ़ लाख एकड़ तक सिंचाई की व्यवस्था एक-दो साल में की गई। उन्होंने समतल खेती पर जोर देते हुए कहा कि इससे 15 फीसद तक पैदावार बढ़ जाती है। साथ ही किसानों से बैल-सांड़ का उपयोग करने की अपील की।

 

Posted By: Saurabh Chakravarty

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप