गोरखपुर (जेएनएऩ)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि काशी हिंदू विश्वविद्यालय (बीएचयू) की घटना के लिए अराजक तत्व जिम्मेदार हैं। प्रदेश सरकार उनसे पूरी सख्ती से निपटेगी। सिर्फ इतना ही नहीं लाठीचार्ज के जिम्मेदार अफसरों और कर्मचारियों को भी नहीं बख्शा जाएगा। प्रकरण में जितने भी मुकदमे विद्यार्थियों पर दर्ज हैं, दशहरे बाद उनके विश्वविद्यालय लौटने पर वापस ले लिये जाएंगे।


मुख्यमंत्री मंगलवार की शाम गोरखनाथ मंदिर में पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि बीएचयू प्रकरण की जांच वाराणसी के कमिश्नर और जिलाधिकारी को सौंपी गई थी और उन्होंने जांच रिपोर्ट दे भी दी है। रिपोर्ट के आधार पर एडिशनल सिटी मजिस्ट्रेट, एक डिप्टी एसपी और एक थानाध्यक्ष के खिलाफ कार्रवाई भी की जा चुकी है। इसके अलावा मजिस्ट्रेट जांच के आदेश भी दिए जा चुके हैं और उसकी रिपोर्ट का इंतजार किया

जा रहा है। मुख्यमंत्री ने वाराणसी जिला प्रशासन के प्रति इस बात पर भी नाराजगी जताई कि पत्रकारों पर भी लाठी चार्ज किया गया। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन को सख्त निर्देश दिया गया है कि वह किसी भी विद्यार्थी को परेशान न करे लेकिन उनकी आड़ मेंं कार्य कर रहे उन असामाजिक तत्वों को हर हाल में चिह्नित करें, जिन्होंने माहौल बिगाड़ा है या बिगाडऩे की कोशिश कर रहे हैं।

संवाद बनाएं विवि प्रशासन
मुख्यमंत्री ने प्रदेश के सभी विश्वविद्यालय प्रशासन को नसीहत दी कि वह अपने विद्यार्थियों से संवाद स्थापित करें, क्योंकि संवाद से बड़ी से बड़ी समस्याओं का निदान किया जा सकता है। संवाद न होने की वजह से ही वाराणसी जैसी असहज स्थिति पैदा हुई है। इसे लेकर विश्वविद्यालयों से पहले भी आग्रह किया जा चुका है। उन्होंने विपक्षी राजनीतिक दलों पर भी निशाना साधा और कहा कि विपक्ष के पास कोई मुद्दा नहीं है। वह केंद्र व राज्य सरकार के विकास के मुद्दे से ध्यान भटकाने के लिए छोटे-छोटे मुद्दों को तूल दे रहा है। मुद्दाविहीन विपक्ष से और कोई उम्मीद भी नहीं की जा सकती है।

केंद्र को भेजेंगे रिपोर्ट
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि चूंकि बीएचयू केंद्रीय विश्वविद्यालय है, इसलिए विश्वविद्यालय प्रशासन पर कोई भी कार्रवाई केंद्र सरकार ही करेगी। प्रकरण पर जैसे ही पूरी रिपोर्ट तैयार हो जाती है, उसे कार्रवाई के लिए केंद्र सरकार को भेज दी जाएगी।

बीएचयू को नहीं बनने देंगे जंग का अखाड़ा : केशव
उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने मंगलवार को खागा में कहा कि बीएचयू प्रकरण में न्यायिक जांच चल रही है। जो दोषी होगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। शिक्षा के मंदिर को जंग का अखाड़ा नहीं बनने दिया जाएगा। वह यहां रेलवे ओवर ब्रिज का लोकार्पण करने आए थे। 

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस