वाराणसी, जेएनएन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी काशी में आभार जताने के लिए एक बार फिर मेगा रोड शो करेंगे। इसके लिए 27 मई को प्रधानमंत्री काशी आ रहे हैं। पहले 28 मई को उनके आने की अटकलें चल रही थीं। मगर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने 27 मई को पीएम के आने की पुष्टि की।

पीएम नरेंद्र मोदी के वाराणसी में रोडशो करने के साथ ही बड़ालालपुर टीएफसी में जनप्रतिनिधियों व प्रबुद्धजनों संग बैठक करने की बात भी सामने आ रही है। अभी इस संबंध में वाराणसी भाजपा पार्टी कार्यालय को सूचना नहीं है । उधर भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारियों से मिले फीडबैक के बाद जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन ने अपनी तैयारी शुरू कर दी हैं। 2014 चुनाव के बाद से लेकर अब तक पीएम मोदी के दौरे के दौरान हुए रोड शो को लेकर सभी स्थानों से संबंधित जानकारियां जुटाई जा रही हैं। इस आधार पर सुरक्षा व्यवस्था व अन्य इंतजाम का ब्लू प्रिंट तैयार किया जाएगा।

पीएम के आगमन को लेकर संगठन की ओर से भी मंथन भी होने लगा है। भाजपा सूत्रों के मुताबिक पीएम मोदी बाबा श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन करने के बाद गंगा आरती में शामिल होंगे। गंगा घाट से ही मन की बात साझा कर काशी की जनता का आभार व्यक्त करेंगे। 2014 में पीएम मोदी शाम को पुलिस लाइन में हेलीकाप्टर से उतरे थे। इसके बाद सड़क मार्ग से बांसफाटक पहुंचे थे। वहां से पैदल ही बाबा दरबार गए। दर्शन-पूजन के बाद गंगा आरती में शामिल हुए जहां से जनता को मन की बात कहते हुए संबोधित किया। जीत का आभार व्यक्त करते हुए काशी के समग्र विकास का संकल्प लिया था। इसके बाद पांच साल के कार्यकाल में काशी की तस्वीर बदल दी। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर काशी की एक अलग पहचान बनी। इस विकास की बयार में काशी का मूल स्वरूप बरकरार रखा गया। बनारसी मिजाज में ही गंगा घाट से लेकर बाबतपुर एयरपोर्ट तक सड़कों का विकास कर अन्तरराष्ट्रीय मानक पर निर्माण किया गया। कई ऐसे भी बुनियादी ढांचों पर कार्य किए गए जो काशी के विकास में मील का पत्थर साबित हुआ।

आध्यात्मिक काशी का आधुनिकतम स्वरूप 

विकास के पथ पर रफ्तार भर चुकी काशी को अपने सांसद व देश के पीएम मोदी से उम्मीदें बढ़ गई हैं। इसमें कोई दो राय नहीं है कि विकास के मानक वर्तमान परिवेश में बदल गए हैं। विश्व के विकसित शहरों में काशी का नाम शुमार करने की इच्छा यहां के निवासियों के मन में बसने लगी है। इसका अंदाजा पीएम समेत उनके सिपाहसलारों को भी है। पीएम मोदी के चुनावी प्रबंधन की जिम्मेदारी संभालने वाले कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन गोपाल ने दैनिक जागरण प्रतिनिधि से विशेष बातचीत में इसका खुलासा भी किया है। टंडन के मुताबिक इस बार काशी का विकास दो गुनी गति से होगा। यहां की आध्यात्मिकता, मौलिकता को बरकरार रखते हुए आधुनिकतम शहर बनाने का लक्ष्य रखा गया है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Vandana Singh