वाराणसी (जेएनएन) । प्रवासी भारतीय सम्मेलन में बनारसी उत्पाद को दिखाने व समझाने के लिए उद्योग विभाग की ओर से कई इंतजाम किए जा रहे हैं। वन डिस्ट्रिक वन प्रोडक्ट के तहत सिल्क के साथ ही सभी जीआइ उत्पादों को पेश किया जाएगा, इसकी रूपरेखा बन रही है। विदेश में बनारसी सिल्क के प्रति लोगों में भारी क्त्रेज हैं। इसी क्रेज को कैश करने के लिए बनारसी सिल्क को खास अंदाज में पेश किया जाएगा। बनारसी सिल्क की साड़ी और ब्रोकेड के लिए बुनकर अभी से स्टॉक जुटाने में लगे हैं।

त्योहारी सीजन में माग के साथ ही कुंभ मेला और प्रवासी सम्मेलन में बिक्री बढ़ेगी। बुनकरों के कारखानों में तेजी कामकाज चल रहा है। प्रवासी सम्मलेन में साड़ी बनाने की प्रक्रिया को टीएफसी में लाइव दिखाया जाएगा। जीआइ के उत्पादों के तहत यहा की हस्तकला व हैंडलूम की विविधता को समझाया जाएगा। जिला उद्योग की उपायुक्त करुणा राय के अनुसार ओडीओपी के तहत बनारसी सिल्क व जीआइ को दुनिया के फलक पर पहुंचाने की कवायद हो रही हैं। उत्तर प्रदेश उद्योग नीति के तहत पूर्वाचल पर खास ध्यान दिया जा रहा है। सिंगल विंडो सिस्टम के माध्यम से कारोबारियों की समस्याओं का निदान किया जा रहा है।

राज्य निवेश प्रोत्साहन बोर्ड का गठन किया गया है। प्रदेश सरकार मेन इन यूपी की कवायद में जुटा है। सरकार पूर्वाचल में खास तौर से खाद्य प्रसंस्करण, खादी व ग्रामोद्योग के साथ ही सुक्ष्म, लघु व मध्यम उद्योग को प्रोत्साहित कर रही हैं। इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के मंडलाध्यक्ष आरके चौधरी ने कमिश्नर दीपक अग्रवाल से 21 से 23 जनवरी तक यहा होने वाले प्रवासी भारतीय सम्मेलन के दौरान ट्रेड फेयर रामनगर औद्योगिक क्षेत्र में लगाने की माग रखी। विभिन्न देशों से आने वाले लोग भी यहा के उद्योगों से अवगत हो सके। प्रवासी सम्मेलन में आने वाले लोग यहा आए और उद्योगों को देखे। बड़ा लालपुर स्थित दीनदयाल हस्तकला संकुल में भी उद्यमी स्टॉल लगा सकते हैं। इसके लिए बुकिंग का कार्य चल रहा है।