जागरण संवाददाता, भदोही। महाराजगंज हाईवे पर स्थित बाजार में गुरुवार को एक फाइनेंस कंपनी में घुसे लुटेरों ने मैनेजर और कैशियर के कनपटी पर रिवाल्वर सटा दिया और लाकर की चाबी मांगने लगे। इसी बीच किसी तरह से बदमाशों के चंगुल से निकले कैशियर ने बाहर से गेट बंद कर शोर मचाने लगा। शोर सुनकर बड़ी संख्या में आस-पास के लाेग पहुंच गए। किसी ने इसकी जानकारी पुलिस को दे दी। मौके की नजाकत भांप आस-पास की भी पुलिस बुला ली गई। पुलिस कर्मियों ने खिड़की से बदमाशों को समर्पण करने को कहा। दोनों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया। उनके पास से रिवाल्वर और कारतूस बरामद किया गया।

एसपी डा. अनिल कुमार ने बताया कि लूट की नियत से बदमाश आए थे। इसके अलावा भी मामले की जांच की जा रही है।औराई कोतवाली क्षेत्र के महराजगंज बाजार में कई साल से एक माइक्रो फाइनेंस कंपनी संचालित की जा रही थी। सुबह 10:00 बजे प्रबंधक पंकज कुमार और कैशियर हरिओम कार्यालय में पहुंच गए थे। दोनों कर्मी अपने- अपने चेंबर में बैठ कर काम कर रहे थे। इसी बीच दो बदमाश पहुंचे और कंपनी के दोनों कर्मियों के कनपटी पर असलहा सटा दिया। इस बीच कैश काउंटर पर रखा 40,000 रुपये ले लिया और लाकर की चाबी मांगने लगे। कैशियर ने प्रबंधक की ओर इशारा करते हुए लाकर की चाबी की जानकारी दी। किसी तरह वह कार्यालय से निकलकर बाहर से दरवाजा बंद कर लिया। घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस क्षेत्राधिकारी और प्रभारी निरीक्षक सदानंद सिंह पहुंच गए। पुलिस कर्मियों ने खिड़की से बदमाशों को असलहा फेंककर समर्पण करने को कहा। पुलिस ने दरवाजा खोलकर दोनों बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया।

पूछताछ में बदमाशों ने राजकुमार गौतम, और मनोज कुमार गौतम निवासी बरैनी कछवा मीरजापुर अपना नाम बताया। मौके पर एसपी और अपर पुलिस अधीक्षक भी पहुंच गए। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि बदमाशों के पास से 40,000 रुपये बरामद किया। बताया कि लूट को अंजाम देने आए बदमाश पहले माइक्रो फाइनेंस कंपनी में ही काम करते थे। बताया कि इसके अलावा भी कंपनी के कर्मियों और बदमाशों से पूछताछ की जा रही है। बताया कि फाइनेंस कंपनी के कैश में 9,74,007 रुपये था।

नकली पिस्टल से बदमाश दे रहे घटना को अंजाम

औराई क्षेत्र में नकली पिस्टल से बदमाश इन दिनों घटना को अंजाम दे रहे हैं। फाइनेंस कंपनी में लूट को अंजाम देने आए बदमाश नकली पिस्टल भी लेकर आए थे। नकली पिस्टल प्रबंधक के कनपटी पर लगाए थे जबकि असली रिवाल्वर को कैशियर को। इसके पहले भी डीपीआरओ के चालक ने भी नकली पिस्टल से लूट को अंजाम दे रहे थे। जानकारों का कहना है कि औराई क्षेत्र में नकली रिवाल्वर बनाने का कारखाना तो नहीं संचालित की जा रही है। पुलिस को इसे भी गंभीरता से लेना होगा।

Edited By: Saurabh Chakravarty