वाराणसी, जेएनएन। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पीएम स्वनिधि योजना के तहत मंगलवार को सुबह 10.30 बजे ऑनलाइन ऋण वितरण के बाद दुर्गाकुंड के समीप मानस नगर कॉलोनी के मोड़ पर मोमाे व काफी की दुकान लगाने वाले 39 वर्षीय मिस्टर माही हॉट एंड कूल यानी अरविंद मौर्या से बात की। मोमाे व कॉफी बनाते व पीएम से बात करते ऑनलाइन फूड डिलिवरी की नामी कंपनी स्विगी से जुड़े इस दुकानदार को लाइव पूरे देश ने देखा। जिलाधिकरी कौशल राज शर्मा ने बताया कि तैयारी पूरी पहले ही की जा चुकी थी।

दूसरी तरफ, अरविंद पीएम से बात करने को लेकर खासा उत्साहित नजर आए। इस बाबत जागरण को बताया कि दुकान को सजाने-संवारने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। बोले, एक सपना सच होने की उम्मीद में सोमवार की रात नींद नहीं आई। वहीं, पीएम नरेंद्र मोदी को उन्‍होंने बताया कि डिजिटल को बढ़ावा देने के लिए वह ऑनलाइन ऑर्डर करने वाले ग्राहक को एक अतिरिक्‍त मोमोज फ्री देते हैं। इस पर पीएम ने उनके कार्यों की प्रशंसा करते हुए इसे कारोबार की बारीकी की संज्ञा दी।

पीएम के कार्यक्रम को अधिक से अधिक वेण्डरों को दिखाने के लिए आधा दर्जन स्थानों पर एलइडी स्क्रीन लगाए गए थे। कुछ जगहों पर पंडाल बनाए गए थे। कार्यक्रम स्‍थल में कमिश्नर, डीएम समेत अन्य आला अधिकारी यहां मौजूद रहेंगे। एक सौ के करीब वेण्डर भी रहेंगे। इसके साथ बैकअप में चाट व गोलगप्पा बनाने वाले चयनित वेण्डर शशि गुप्ता भी मौजूद रहे।

चयनित अन्य स्थलों में टीएफसी लालपुर में पांच सौ वेण्डर मौजूद थे। बड़ी स्क्रीन पर पीएम का कार्यक्रम देख रहे हैं। इसके अलावा आशापुर में बनारस घराना परिसर, पराड़कर भवन, अस्सी घाट पर भी कार्यक्रम लाइव दिखाने की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा पीएम के कार्यक्रम को दिखाने के लिए पांच ओटी वैन भी शहर के विभिन्न स्थलों पर खड़े रहेंगे।

पीएम स्वनिधि योजना

केंद्र सरकार पीएम स्वनिधि योजना के तहत पटरी पर दुकान लगाने वालों दुकानदारों को कारोबार बढ़ाने के लिए दस हजार रुपये ऋण दे रही है। कर्ज 12 किश्तों में चुकानी है। समय से कर्ज देने वालों को सात फीसद की सब्सिडी भी मुहैया है। इसके अलावा एक हजार रुपये के ऑनलाइन लेन-देन पर  लगभग 100 रुपये रिटर्न गिफ्ट भी दिए जा रहे हैं।

योजना में जनपद की स्थिति

- ऑनलाइन रैंकिंग में वाराणसी देश में शीर्ष पर।

- 45 हजार 282 वेण्डर जिले में रजिस्टर्ड हैं।

-24 हजार 115 वेण्डरों के आवेदन पर ऋण स्वीकृत है।

- बीस हजार से अधिक वेण्डरों के खाते में धनराशि भेजी जा चुकी है।

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस